मौसम विभाग की ओर से पूर्वी राजस्थान में भारी बारिश की चेतावनी के बाद भरतपुर में गुरुवार को जमकर पानी बरसा. यहां शाम करीब पांच बजे शुरू हुई बारिश देर रात करीब 12 बजे तक चली. इस दौरान भरतपुर शहर में 149 एमएम पानी गिरा. आने जाने के रास्ते बंद हो गए, जिससे लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा. लगातार करीब छह घंटे हुई मूसलाधार बारिश से पूरा भरतपुर शहर जलमग्न हो गया.

भारी बारिश से भरतपुर में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए. बारिश शाम करीब पांच बजे शुरू हुई थी. उसके बाद करीब छह बजे से बारिश से रफ्तार बढ़ गई और मूसलाधार बारिश शुरू हो गई. रात करीब 12 बजे तक मूसलाधार बारिश का दौर चला. भारी बारिश के चलते आवागमन लगभग ठप सा हो गया. लोग घरों और दुकानों में ही कैद होकर रह गए. बारिश के कारण शहर में चारों तरफ पानी ही पानी हो गया. यह पानी शुक्रवार को सुबह तक नहीं उतर पाया. इससे लोगों को बाहर जाने में परेशानियों का सामना करना पड़ा. जलभराव के चलते जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया.

बाढ़ जैसा नजारा दिखा

बारिश से लोहागढ़ स्टेडियम, नुमाइश मैदान, जसवंतनगर, गांधीनगर और गिरीश विहार कॉलोनी में बाढ़ जैसे हालत हो गए. बारिश से कई घरों में पानी भर गया था, जिससे लोगों को छतों की शरण लेनी पड़ी. पानी भराव के कारण हुई परेशानियों के कारण लोगों में जिला प्रशासन के प्रति आक्रोश पैदा हो गया. हालांकि काली की बगीची चौराहे पर बारिश के पानी को निकालने के लिए एक बड़ा पंप लगाया गय है, लेकिन लोगों को अभी राहत नहीं मिल पा रही है. भरतपुर के अलावा कुम्हेर में 7, डीग में 25, कामां में 12, पहाड़ी में 17, बयाना में 8, भुसावर में 25 और रूपबास में 27 एमएम बारिश दर्ज की गई है.