राजधानी दिल्ली से महज कुछ दूर स्थित एक गांव ऐसा भी है, जहां मोबाइल चार्ज करने और पानी की बाल्टी भरने के लिए लोगों को 10 से 20 रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं. यहां के लोग कई ज़रूरतों के लिए गांव से एक-डेढ़ किलोमीटर दूर जाने पर मजबूर हैं.

यह हाल है कनवानी पुश्तापुर का और यह गांव गाजियाबाद की रिहायशी कालोनी इंदिरापुरम से महज कुछ दूर स्थित है. यहां पिछले 19 दिन से बिजली नहीं आई है. यहां के लोगों को मोबाइल चार्ज करने के लिए 10 रुपये तो एक बाल्टी पानी के लिए 20 रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं. इसके अलावा बिजली नहीं आने से आसपास का कॉटन उद्योग भी पूरी तरह से ठप हो गया है.

यह इलाका हिंडन नदी के बाढ़ प्रभावित क्षेत्र, नोएडा नगर निगम और संसदीय क्षेत्र में आता है जबकि राजस्व विभाग के रिकॉर्ड के मुताबिक यह गाजियाबाद में आता है.
स्थानीय निवासी सुनील चौहान ने बताया, "आज के समय में बिजली के बिना 1 दिन भी रहना मुश्किल है. बावजूद इसके हम लोग पिछले 18 दिनों से बिना बिजली के रह रहे हैं." 48 वर्षीय सुनील ने बताया कि यहां लगभग 2400 परिवार रहते हैं जो पानी के लिए सबमर्सिबल पर आश्रित हैं. बिजली नहीं आने से सबमर्सिबल पंप बंद पड़ा है.

वहीं 45 वर्षीय सुनीता का कहना है कि हालात इतने खराब हो चुके हैं कि कोई पड़ोसी भी मदद नहीं करता क्योंकि वह खुद पानी की कमी से जूझ रहा है. उनकी बेटी 10वी क्लास में है और उसके बोर्ड के एग्जाम आने वाले हैं लेकिन पानी और बिजली नहीं होने से वह कई दिनों से स्कूल नहीं जा पा रही है.

पानी की कमी का आलम यह है कि नहाने के लिए कुछ लोग अपने दफ्तर के वॉशरूम का इस्तेमाल कर रहे हैं. असली परेशानी तो यहां रहने वाली महिलाओं की है, जिनका ज्यादातर समय घर पर बीतता है. ऐसे में पानी और बिजली की कमी ने उनके रोजमर्रा की जिंदगी को बुरी तरह प्रभावित किया है.

सेना से रिटायर 52 वर्षीय रमेश सिंह ने बताया कि वह इंदिरापुरम के एक प्राइवेट सिक्योरिटी टीम में काम करते हैं, जहां वह बिना नहाए नहीं जा सकते हैं. पिछले दो हफ्ते से वह नहाने के लिए केवल 5-6 मग पानी का इस्तेमाल कर रहे हैं. अपनी 6 महीने की पोती को गर्मी से बचाने और सुलाने के लिए उन्हें रातभर हाथ से पंखा झलना पड़ता है.

दसवीं क्लास में पढ़ने वाले अमित का कहना है स्मार्टफोन होने के बावजूद भी वह इंटरनेट नहीं यूज कर सकते. मोबाइल चार्ज करने के लिए आसपास के गांवों में दोस्तों के घर जाना पड़ता है.