जब बात महिलाओं के लिए कॉन्ट्रसेप्टिव यूज की आती है तो ज्यादातर महिलाएं गर्भनिरोधक गोलियों का ही इस्तेमाल करती हैं लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि सिर्फ पुरुषों के लिए ही नहीं बल्कि महिलाओं के लिए भी फीमेल कॉन्डम मार्केट में मौजूद है। अगर आपका पार्टनर कॉन्डम यूज करने से कतराता है और आप गर्भनिरोधक गोलियां नहीं खाना नहीं चाहतीं तो फीमेल कॉन्डम यूज कर सकती हैं। लेकिन इससे पहले कि आप इसे यूज करने के बारे में सोचना शुरू कर दें हम आपको बता रहे हैं फीमेल कॉन्डम यूज करने के फायदे और नुकसान....
सिर्फ विदेशों में ही नहीं बल्कि भारत में भी एचएलएल लाइफकेयर लिमिटेड (HLL) नाम की कंपनी ने 'वेलविट' ब्रैंड नाम से महिलाओं के लिए कॉन्डम लॉन्च किया है। फीमेल कॉन्डम पूरी सुरक्षा प्रदान करता है और महिलाओं को सुरक्षित यौन संबंध बनाने में मदद करता है। फीमेल कॉन्डम महिलाओं को सशक्त बनाता है। यह महिला की पहल वाली एकमात्र गर्भनिरोधक विधि है जो गर्भधारण से रोकथाम करने के साथ ही एचआईवी/एड्स से भी दोहरी सुरक्षा प्रदान करता है।
फीमेल कॉन्डम जिसे फेमिडोम भी कहते हैं, सॉफ्ट और बारीक प्लास्टिक से बना होता है जिसे पॉलियूरेथेन कहते हैं। इंटरकोर्स के दौरान सीमन को गर्भाशय तक पहुंचने से रोकने के लिए इसे वजाइना में लगाया जाता है। अगर इस कॉन्डम का सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए तो यह अनचाहे गर्भ के साथ ही सेक्शुअली ट्रांसमिटेड डिसीज यानी STD से भी 95 प्रतिशत तक सुरक्षा प्रदान करता है।
जिस तरह से टैम्पून को वजाइना के अंदर इंसर्ट किया जाता है, ठीक उसकी तरह से फीमेल कॉन्डम को भी प्राइवेट पार्ट के अंदर इंसर्ट किया जाता है। इसमें कॉन्डम के इनर रिंग को अंदर की ओर जबकि आउटर रिंग को बाहर की ओर रखा जाता है।
- सही तरीके से इस्तेमाल करने पर यह दोनों पार्टनर को STD, STI और HIV जैसे संक्रमण से बचाता है
- अनचाहे गर्भ से बचने का कारगर तरीका है
- इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है
- मेल कॉन्डम की ही तरह इसे भी सेक्स से पहले कभी भी यूज किया जा सकता है