नई दिल्ली : दो दिवसीय भारत यात्रा पर आए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात कर कई अहम मुद्दों पर बातचीत की. द्विपक्षीय वार्ता के बाद दोनों नेताओं ने आईटीसी मौर्य में आयोजित इंडो-रसिया बिजनेस समिट में हिस्सा लिया. बिजनेस समिट के दौरान पुतिन ने भारतीय और रूस के छात्रों के एक ग्रुप से मुलाकात की और कई अहम मुद्दों पर बातचीत की. बातचीत के दौरान एक छात्र ने पुतिन से ऐसा सवाल किया, जिसका वो जवाब नहीं दे पाए. 

किस वैज्ञानिक ने किया मानवता के लिए किया काम?
दरअसल, एक छात्र ने पूछा कि किस वैज्ञानिक ने उनको सबसे ज्यादा प्रभावित किया है? छात्र के सवाल का जवाब देते हुए पुतिन ने कहा कि इसका जवाब देना बेहद कठिन काम है. हालांकि इस दौरान पुतिन ने कहा कि यहां पर अहम बात यह है कि किस वैज्ञानिक ने मानवता के लिए काम किया है. उन्होंने कहा कि विज्ञान एक महत्वपूर्ण विषय है जिस पर चर्चा करना आवश्यक है. 
इसके बाद एक और छात्र ने पुतिन से सवाल करते हुए कहा है कि BRICS के साथ स्पेश कॉरपोरेशन प्रोग्राम के बारे में आप क्या सोचते हैं? इस सवाल का जवाब देते हुए पुतिन ने कहा कि रूस ने इस क्षेत्र में सहयोग के लिए एक खास तरह का प्लेटफॉर्म बनाया है. 

आतंकी नेटवर्क को खत्म करने पर बनी सहमति
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच 19वें भारत रूस वार्षिक शिखर सम्मेलन के बाद जारी संयुक्त बयान में कहा गया है कि दोनों देशों ने आतंकवादी नेटवर्क को समाप्त करने के साथ उनके वित्त पोषण के स्रोत, हथियारों एवं लड़ाकों की आपूर्ति लाइन, आतंकी विचारधारा एवं दुष्प्रचार तंत्र को समाप्त करने की दिशा में मिलकर काम करने पर सहमति व्यक्त की . 

संयुक्त बयान में सीमापार आतंकवाद को खारिज करते हुए कड़ा बयान ऐसे समय में महत्वपूर्ण माना जा रहा है जब भारत के घनिष्ट मित्र रूस के संबंध पिछले कुछ दिनों में पाकिस्तान के साथ बेहतर होने की खबरें आ रही थी.