टोक्यो: अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ उत्तर कोरिया की अपनी यात्रा से पहले जापानी अधिकारियों से चर्चा करने के लिए शनिवार को टोक्यो पहुंचे. उत्तर कोरिया को परमाणु हथियार त्यागने को राजी करने के लिए पोम्पिओ पर दबाव है क्योंकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप उत्तर कोरियाई शासक किम जोंग उन से दूसरी बार मिलना चाहते हैं. इससे पहले ट्रंप और किम के बीच जून में सिंगापुर में मुलाकात हुई थी. पोम्पिओ रविवार को उत्तर कोरिया रवाना होने से पहले शनिवार को जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे और जापानी विदेश मंत्री तारो कोनो से मिलेंगे और प्योंगयांग के संबंध में नीतियों पर चर्चा करेंगे.
पोम्पिओ पूर्वी एशिया की तीन दिवसीय यात्रा पर हैं और टोक्यो उनका पहला पड़ाव है. अपनी इस यात्रा के तहत वह दक्षिण कोरिया और चीन भी जाएंगे. अमेरिकी विदेश मंत्री के लिए असली कूटनीतिक परीक्षण उत्तर कोरिया में होगा जहां वह किम को परमाणु हथियार त्यागने के लिए राजी करने की कोशिश करेंगे. 
डोनाल्ड ट्रंप दोबारा किम जोंग से मिलने को बेताब
अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो एक संभावित ऐतिहासिक समझौते की रूप-रेखा तैयार करने के लिए इस सप्ताह के अंत में फिर से उत्तर कोरिया जाएंगे. इस साल शीर्ष अमेरिकी राजनयिक की यह चौथी यात्रा है. इस बार वह उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच एक और शिखर सम्मेलन की व्यवस्था करने जा रहे हैं.
गौरतलब है कि कुछ ही दिन पहले ट्रंप ने कहा था कि उन्हें ‘उन‘ से प्यार हो गया है. पोम्पियो शनिवार को जापान पहुंचेंगे, जिसके बाद वह रविवार को प्योंगयांग में किम के साथ मुलाकात करेंगे. पोम्पेओ को उम्मीद है कि इस कूटनीतिक कदम से उत्तर कोरिया परमाणु हथियारों और बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रमों को छोड़ने के लिए राजी हो सकता है.