देहरादून : उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में रविवार को निवेशक सम्मेलन का आयोजन किया गया. इस सम्मेलन में देश-विदेश के निवेशकों ने हिस्सा लिया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां आए निवेशकों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत में सुरक्षित निवेश की अपार संभावनाएं हैं. इस मौके पर रिलांयस जियो ने भी अपनी कई योजनाओं का खुलासा किया. 

उत्तराखंड में 4,000 करोड़ रुपये का निवेश करने के बाद अब रिलायंस जियो अगले दो साल में उत्तराखंड के 2,385 से अधिक विद्यालयों को हाईस्पीड इंटरनेट से जोड़ेगा. इसका उद्देश्य उत्तराखंड को 'डिजिटल देवभूमि' बनाना है. रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने यह बात कही. 

मुकेश अंबानी ने उत्तराखंड निवेशक शिखर सम्मलेन में कहा कि जियो पर्यावरण की रक्षा करने वाले उद्योगों और व्यवसायों को बढ़ावा देगा. उन्होंने कहा कि वह 'देवभूमि उत्तराखंड' को 'डिजिटल देवभूमि' में बदलना चाहते हैं.

उन्होंने कहा कि जियो पर्यटन को बढ़ावा देगा. इसी के साथ स्वास्थ्य सेवा, शिक्षा और सरकारी सेवाओं की आपूर्ति में सुधार करेगा. इससे नागरिकों के जीवनस्तर में सुधार आएगा. जियो 'डिजिटल उत्तराखंड' को लेकर प्रतिबद्ध है, जहां हर नागरिक के पास सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाली डिजिटल कनेक्टिविटी और सेवाएं होंगी." 
अंबानी ने कहा कि इन सभी से अतिरिक्त रोजगार सृजित करने में मदद मिलेगी और राज्य के नागरिकों के लिए आय के अधिक अवसर खुलेंगे. हमारी दो साल के अंदर 2,185 सरकारी विद्यालयों और 200 से अधिक सरकारी महाविद्यालयों को इंटरनेट से जोड़ने की योजना है.

अंबानी ने कहा कि उनकी कंपनी राज्य में सबसे अधिक निवेश करने वालों में से एक है. कंपनी ने पिछले कुछ वर्षों में 4,000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश किया है और बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर सृजित किए है. जियो, रिलायंस इंडस्ट्रीज की अनुषंगी कंपनी है.