बीजिंग: चीन ने सोमवार को घोषणा कि कि इंटरपोल के चीनी प्रमुख मेंग होंगवेई के खिलाफ कथित भ्रष्टाचार की जांच की जा रही है. वह पिछले महीने रहस्यमय तरीके से लापता हो गये थे. नवीनतम मामला राष्ट्रपति शी जिनपिंग के नेतृत्व में घूस विरोधी एक व्यापक अभियान के तहत एक महत्वपूर्ण व्यक्ति पर केन्द्रित है. मेंग फ्रांस में इंटरपोल के मुख्यालय से जब चीन आ गये थे उसके बाद सितंबर के अंत में उनके लापता होने की ख्बार पहली बार आयी थी.  वह चीन में जन सुरक्षा उपमंत्री भी हैं.  इंटरपोल एक वैश्विक पुलिस एजेंसी है जो विश्वभर में लापता और वांछित लोगों की तलाशी सहित पुलिस बलों के बीच समन्वय का काम करती है. 

मेंग की पता-ठिकाने को लेकर सबसे पहले उनकी पत्नी ग्रेस ने चिंता व्यक्त की.  उन्होंने वृहस्पतिवार देर शाम लयोग शहर में फ्रांसीसी अधिकारियों के समक्ष मेंग की लापता होने का मुद्दा उठाया.  इसी स्थान ये दंपत्ति रहता है. ग्रेस ने खुलासा किया कि इंटरपोल के पहले प्रमुख मेंग ने लापता होने के दिन एक संदेश भेजा जिसमें चाकू वाला एक इमोजी (भाव रेखाचित्र) था जो संकेत देता है कि वह संकट में है. चीनी सरकार ने मेंस (64) पर घूस लेने और अन्य अपराधों में शामिल होने का आरोप लगाया है.

देश के शीर्ष कानून प्रवर्तन अधिकारी झाओ केझी के हवाले से सोमवार को जारी एक बयान में कहा गया, ‘‘(मेंग द्वारा) गलत रास्ता अपनाने पर जोर दिया गया और इसके लिए वह खुद को ही जिम्मेदार थे. ’’ चीनी अधिकारियों ने फ्रांस से चीन जाने के बाद पिछले महीने मेंग के अचानक लापता हो जाने को लेकर पूर्व में उसके पता-ठिकाने पर चुप्पी साध रखी थी.
रविवार को जारी बयान के मुताबिक एक अन्य घटनाक्रम में इंटरपोल ने घोषणा की कि होंग ने अंतरराष्ट्रीय पुलिस एजेंसी के अध्यक्ष पद से तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दे दिया है. इसमें इंटरपोल के पूर्व प्रमुख के ठिकाने या चीनी जांच का कोई जिक्र नहीं किया गया है.