श्रीनगरः आतंकवाद से प्रभावित कश्मीर घाटी में शहरी स्थानीय निकायों के 49 वार्डों में मतदान शुरु होने के पहले पांच घंटे के भीतर तकरीबन दो प्रतिशत ही मतदान हुआ. घाटी में कड़ी सुरक्षा के बीच चुनाव हो रहे हैं. अधिकारियों ने बताया कि घाटी में दूसरे चरण का मतदान सुबह छह बजे शुरु हुआ और शाम चार बजे समाप्त होगा. चार चरणों में चुनाव होने हैं. एक अधिकारी ने कहा, ‘‘पहले पांच घंटों में 2.20 लाख मतदाताओं में से केवल 1.8 प्रतिशत ने वोट डाले.’’ 

शुरुआत में दिखा लोगों में उत्साह
सुबह 6 बजे से शुरू हुए मतदान में शामिल होने के लिए लोग पोलिंग बूथों पर कतार में लगे दिखे. चुनाव के लिए जम्मू-कश्मीर पुलिस ने पुख्ता इंतजाम किए हैं. चुनाव वाले क्षेत्रों में सुरक्षा बलों का गश्त बढ़ा दिया गया है, ताकि जनता के बीच किसी तरह का खौफ ना रहे. अधिकारियों ने बताया कि दूसरे चरण का मतदान सुबह 6 बजे से शाम चार बजे तक होंगे. 

11.00 बजे : स्थानीय निकाय चुनावों में पहले चरण के मुकाबले दूसरे चरण के मतदान के लिए लोगों में उत्साह देखने को मिल रहा है.

9.10 बजे : रंबन के वार्ड नंबर 1 के प्रत्याशी आजाद सिंह की हार्ट अटैक से मृत्यु के बाद मौत हो गई है. प्रत्याशी की मौत हो जाने के बाद मतदान को तत्काल प्रभाव से रद्द कर दिया गया है.

9.00 बजे : सुबह 8 बजे तक जम्मू के रंबन, बटोटे और बनिहाल जिलों से 14 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया. 

200 प्रत्याशियों की किस्तम पर लगा है दांव
दूसरे चरण में राज्‍य में 165 वार्ड पर वोटिंग हो रही है. इस चरण में करीब 200 से अधिक प्रत्याशी मैदान में उतरे हैं, जिनमें से 62 को निर्विरोधी विजय घोषित कर दिया गया है. वहीं करीब 50 वार्ड वार्ड ऐसे हैं, जहां किसी ने भी नामांकन नहीं भरा है. बता दें कि इस दूसरे चरण में करीब डेढ़ लाख से अधिक वोटर हैं. जानकारी के अनुसार दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग जिले की अनंतनाग म्यूनिसिपल कारपोरेशन के 25 वार्ड में से 16 पर वोटिंग हो रही है. यहां 47 उम्मीदवार मैदान में अपनी किस्मत आजमाने के लिए उतरे हैं. 

अधिकारियों ने बताया कि कश्मीर में मतदान के लिए 270 केंद्र बनाए गए हैं जबकि जम्मू में 274 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. उन्होंने बताया कि इन वार्डों में कुल 346,980 मतदाता हैं जिनमें से 128,104 जम्मू से और 218,876 कश्मीर से हैं. 

नेकां और पीडीपी ने किया चुनावों का बहिष्कार
नेशनल कॉन्फ्रेंस (नेकां), पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) और माकपा ने उच्चतम न्यायालय में संविधान के अनुच्छेद 35ए को कानूनी चुनौती देने के विरोध में चुनावों का बहिष्कार किया है. सरकार ने चुनाव के लिए निर्वाचन क्षेत्रों में छुट्टी की घोषणा की है ताकि मतदाता वोट डाल सकें.

अलगाववादियों ने किया विरोध प्रदर्शन का आह्वान
अलगाववादियों ने उन इलाकों में विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया है, जहां घाटी में मतदान निर्धारित है. आतंकवादियों ने चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों को धमकियां दी हैं और मतदाताओं से चुनाव प्रक्रिया से दूर रहने के लिए कहा है.

13 और 16 अक्टूबर को अगले चरण का चुनाव
10 अक्टूबर को मतदान की प्रक्रिया संपन्न होने के बाद अगले चरण में 13 और 16 अक्टूबर को मतदान होगा.