वॉशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को अपने पूर्ववर्ती बराक ओबामा की खिंचाई करते हुए कहा कि दक्षिण चीन सागर को लेकर उनका रवैया ‘नपुंसक’ जैसा रहा. उन्होंने कहा कि ओबामा प्रशासन की कमजोरी की वजह से ही चीन इस क्षेत्र में अपना प्रभुत्व बढ़ाने में कामयाब रहा. ट्रंप ने कहा कि ओबामा प्रशासन की इसी कमजोरी की वजह से आज चीन विवादित क्षेत्र में अमेरिका के लिए चुनौती बनकर खड़ा हो गया है.

दक्षिणी चीन सागर को लेकर कमजोर रहा ओबामा प्रशासन
अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने इस सप्ताह चीन के शीर्ष नेतृत्व के साथ हुई बैठक के बारे में ट्रंप को बताया. इसी के कुछ घंटों बाद अमेरिकी राष्ट्रपति की ओर से यह टिप्पणी की गई. ट्रंप ने संवाददाताओं के साथ बातचीत में कहा, "ओबामा प्रशासन दक्षिणी चीन सागर को लेकर कमजोर रहा." इसी के चलते अब चीन की नौसेना विवादित क्षेत्र में अमेरिका के सामने चुनौती बन कर खड़ी हो गई है.

खनिज पदार्थ, तेल और प्राकृतिक संसाधनों से भरपूर है चीन सागर
दक्षिण चीन सागर को लेकर चीन का विभिन्न देशों से विवाद है जबकि पूर्वी चीन सागर को लेकर उसका जापान के साथ विवाद है. दोनों ही क्षेत्र खनिज पदार्थों, तेल और अन्य प्राकृतिक संसाधनों से भरपूर है. वैश्विक व्यापार के लिहाज से भी यह क्षेत्र अहम है. अमेरिका नौवाहन की स्वतंत्रता का हवाला देते हुए इस क्षेत्र में नियमित गश्त करता रहता है. इस क्षेत्र पर नियंत्रण रखने के लिए चीन ने कई द्वीपों पर अपनी सैन्य ताकत स्थापित की है.