इस्लामाबाद: पाकिस्तान के अपदस्थ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने गृह मंत्रालय से आग्रह किया है कि उन पर और उनकी बेटी एवं दामाद की विदेश यात्रा पर लगी पाबंदी हटाई जाए.

इमरान खान सरकार ने जब भ्रष्टाचार निरोधी मुहिम के तहत शरीफ, उनकी बेटी मरयम नवाज और दामाद कैप्टन (रिटायर्ड) मोहम्मद सफदर को ‘एग्जिट कंट्रोल लिस्ट’ या निकास नियंत्रण सूची (ईसीएल) में डाला था. तब तीनों एवेनफील्ड फ्लैट भ्रष्टाचार मामले में दोषी करार दिए जा चुके थे और जेल में सजा काट रहे थे. 

इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने बाद में तीनों को जेल से रिहा कर दिया और उनकी सजा निलंबित कर दी. उल्लेखनीय है कि ‘ईसीएल’ में शामिल लोगों को पाकिस्तान से बाहर जाने की इजाजत नहीं होती.

शरीफ, मरयम और सफदर ने तीन अलग-अलग पत्र गृह मंत्रालय को भेजे हैं. इनमें ‘ईसीएल’ से यह कहते हुए अपने-अपने नाम हटाने की मांग की है कि किसी भी संस्था ने उनके नाम इस सूची में दर्ज करने के आदेश नहीं दिए हैं.

उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि इस संबंध में संघीय सरकार का आदेश असंवैधानिक और अवैध है और ‘ईसीएल’ में उनका नाम रखा जाना पाकिस्तानी संविधान की धारा 4, 15 और 25 का उल्लंघन है.