प्रसिद्ध सिने कलाकार और पूर्व मंत्री शत्रुघ्न सिन्हा उर्फ बिहारी बाबू ने कहा कि वे जेपी से प्रभावित होकर राजनीति में आए थे. अटल जी के वक्त लोकशाही थी, आज तानाशाही चल रही है. खोखली जुमलेबाजी नहीं चलेगी. उन्होंने कहा कि अखिलेश के ऊर्जावान और ओजस्वी नेतृत्व में उत्तर प्रदेश जयप्रकाश जी के सपनों को पूरा करेगा और भाजपा का सफाया करने में सफल होगा.
शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, 'यहां अखिलेश तैयार है, बिहार में तेजस्वी तैयार हो चुका है. अब डरने को जरूरत नहीं है.' ईवीएम पर सवाल उठाते हुए बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, ईवीएम पर भी निगाह और खयाल रखना. मैं मन की बात तो नहीं करता क्योंकि इस पर पेटेंट किसी और का है, मैं दिल की बात करता हूं. 
यशवंत सिन्हा की तरह शत्रुघ्न सिन्हा ने भी प्रधानमंत्री मोदी पर तीखा हमला बोला. राफेल पर सीधा सवाल पूछते हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, 'राफेल पर नहीं बच पाओगे दादा. आपको जबाब देना पड़ेगा. एचएएल को क्यों हटाया गया और उस कंपनी को क्यों दिया गया जिसने एक मोटर साइकिल का एक पुर्जा तक नहीं बनाया.'
पूर्व विदेश मंत्री यशवंत सिन्हा ने कहा कि जब देश में अंधेरा था, तानाशाही के दिन थे जब जयप्रकाश जी ने दूसरी आजादी की लड़ाई लड़ी. आज इमरजेंसी से बदतर हालत है. इसकी चुनौती से हम मिलकर निबटेंगे. उन्होंने कहा कि लोकतंत्री संस्थाएं खतरे में हैं. मीडिया को झुकाने का काम हो रहा है. एक निष्पक्ष पत्र के संपादक के यहां छापा डाला गया है. 
प्रधानमंत्री और केंद्रीय मंत्रियों को निशाने पर लेते हुए यशवंत सिन्हा ने कहा, देश के गृहमंत्री को पता नहीं चला कि जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन लगने वाला है. रक्षा मंत्री को पता नहीं है कि राफेल का सौदा हो रहा है. देश के वित्त मंत्री को ये पता नहीं चला कि नोटबंदी होने वाला है. देश के प्रधानमंत्री आज तक विदेश मंत्री को अपने साथ लेकर नहीं गए.
अखिलेश यादव ने याद दिलाया कि लखनऊ में जय प्रकाश जी के नाम पर समाजवादी सरकार में जेपी इंटरनेशनल सेंटर बना है. इसके शिलान्यास के अवसर पर मुलायम सिंह यादव और जार्ज फर्नांडीज भी मौजूद थे. वहां भाजपा ने अब काम रोक दिया है. उन्होंने उम्मीद जताई कि जेपी की अगली जयंती वहीं मनाई जाएगी.
पीएम मोदी और अमित शाह को इशारों में यशवंत सिन्हा ने दुर्योधन और दुःशासन बताया और कहा, 'अगर हम सब मिलकर लड़ेंगे तो जैसे 77 में हमारी जीत हुई थी वैसे ही 2019 मे एक बार फिर जीतेंगे. आज एक बार फिर दुर्योधन और दुःशासन से लड़ने का वक्त आ गया है.'
अखिलेश यादव ने कहा कि जयप्रकाश नारायण ने देश को संपूर्ण क्रांति का नारा दिया था. उससे दिल्ली हिल गई थी. अब देश की सत्ता पर काबिज भाजपा का सन् 2019 में उत्तर प्रदेश और बिहार में सफाया होना तय है. जनता को बस चुनाव की तारीखों का इंतजार है. जनता तभी हिसाब बराबर कर लेगी. 
अखिलेश यादव ने कहा कि नोटबंदी से भ्रष्टाचार कहां मिटा? मंहगाई बढ़ी है. बड़ी-बड़ी डीलें हो गईं किसी को पता नहीं चला. उन्होंने कहा कि गुजरात से यूपी, बिहार के उन्हीं लोगों को भगाया गया जिन्होंने भाजपा को सत्ता में बिठाया. भाजपा के लोगों के इशारे पर उन्हें अपमानित कर देश तोड़ने की साजिश की गई है.