पेरिस : दसॉल्ट कंपनी के सीईओ एरिक ट्रेपियर ने कहा है कि रिलायंस के साथ दसाल्ट एविएशन का संयुक्त उपक्रम राफेल लड़ाकू विमान करार के तहत करीब 10 फीसदी ऑफसेट निवेश का प्रतिनिधित्व करता है. ट्रेपियर ने कहा, ‘‘हम करीब 100 भारतीय कंपनियों के साथ बातचीत कर रहे हैं जिनमें करीब 30 ऐसी हैं जिनके साथ हमने पहले ही साझेदारी की पुष्टि कर दी है.’’ 

दसॉल्‍ट एविएशन के सीईओ ने कहा है कि राफेल डील पर भारत में हो रहे विरोध से निराशा हुई है. साथ ही माना जा रहा है कि फ्रांस दौरे पर गईं रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण शुक्रवार को राफेल डील के प्‍लांट का दौरा कर सकती हैं.

गुरुवार को पेरिस में अलग से एक संवाददाता सम्मेलन में रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने मोदी सरकार के इस दावे को दोहराया कि उसे कोई भनक नहीं थी कि दसाल्ट एविएशन अनिल अंबानी की अगुवाई वाले रिलायंस ग्रुप के साथ गठजोड़ करेगा. मीडिया में आई कई खबरों में कहा गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मेदी ने दसाल्ट को मजबूर किया था कि वह रिलायंस को अपने साझेदार के तौर पर चुने जबकि रिलायंस के पास उड्डयन क्षेत्र में कोई अनुभव नहीं था.
बता दें कि गुरुवार को ही कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने राफेल सौदे मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा था. उन्‍होंने कहा कि पीएम ने अनिल अंबानी को राफेल का ठेका दिलवाया. पीएम ने अनिल अंबानी की जेब में 30 हजार करोड़ डाले. इस वजह से रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण को फ्रांस जाना पड़ा.

राहुल गांधी ने कहा था कि मोदी देश के नहीं, अंबानी के प्रधानमंत्री हैं. राफेल सौदे की जेपीसी जांच होनी चाहिए. अगर पीएम जवाब नहीं दे पा रहे हैं तो उन्‍हें इस्‍तीफा देना चाहिए. प्रधानमंत्री आजकल दूसरी दुनिया में हैं. उन्‍होंने कहा था कि पहले फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ने कहा था कि हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा था कि अनिल अंबानी को राफेल का कॉन्‍ट्रेक्‍ट मिलना चाहिए. अनिल अंबानी 45,000 करोड़ रुपये के कर्जे में हैं. 10 दिन पहले कंपनी खोली और प्रधानमंत्री ने 30,000 करोड़ रुपया हिन्दुस्तान की जनता का पैसा, एयरफोर्स का पैसा अनिल अंबानी की जेब में डाला है.
वहीं बीजेपी ने गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर राष्ट्रीय सुरक्षा का मखौल उड़ाने का आरोप लगाया और कहा कि वह राफेल लड़ाकू विमान सौदे पर झूठ फैलाकर अपना राजनीतिक करियर बनाने का प्रयास कर रहे हैं. बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने गांधी पर उनके इस आरोप के लिए निशाना साधा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भ्रष्ट हैं. प्रवक्ता ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष स्वयं बिचौलियों के एक परिवार से आते हैं. 

पात्रा ने आरोप लगाया कि उनके परिवार ने 2014 से पहले हुए प्रत्येक रक्षा सौदे से पैसा बनाया. उन्होंने आरोप लगाया कि गांधी और उनकी पार्टी ने देश की सुरक्षा को खतरे में डाला. उन्होंने आरोप लगाया कि गांधी राफेल सौदे पर झूठ फैलाकर अपना राजनीतिक करियर बनाने का प्रयास कर रहे हैं. पात्रा ने कहा कि गांधी झूठ बोल रहे हैं और राष्ट्रीय सुरक्षा का मखौल उड़ा रहे हैं.