इस्लामाबाद: पाकिस्तान के प्रधान न्यायाधीश साकिब निसार ने हिन्दुओं की संपत्तियों पर कथित अतिक्रमण पर संज्ञान लिया. एक महिला प्रोफेसर ने उनसे अपील की थी कि देश में अल्पसंख्यक समुदाय ‘बदतरीन अराजकता और कुप्रबंधन’ का सामना कर रहा है.

अपनी न्यायिक सक्रियता के लिए चर्चित न्यायमूर्ति निसार ने सेवानिवृत्त प्रोफेसर डॉ भगवान देवी का वीडियो संदेश देखने के बाद केंद्रीय और सिंध प्रांत के अधिकारियों को नोटिस जारी किया. उनके कार्यालय ने कहा कि उन्होंने देवी की याचिका पर विचार करने का फैसला किया और इस मामले में 18 अक्टूबर को सुनवाई होगी.

अदालत ने पाकिस्तान के अटार्नी जनरल, सिंध के महाधिवक्ता, धार्मिक मामलों एवं अंतरधर्म सौहार्द मंत्रालय, मानवाधिकार सचिव, सिंध के प्रमुख सचिव, अल्पसंख्यक मामलों के विभाग के सचिव, सिंध सरकार और लाड़काना जिले के आयुक्त को नोटिस जारी किए.

देवी ने कहा कि सिंध का हिन्दू समूदाय देश में ‘बदतरीन अराजकता और कुप्रबंधन’ का सामना कर रहा है. महिला प्रोफेसर ने कहा कि भू माफिया सिंध के विभिन्न इलाकों विशेषकर लाड़काना में हिन्दुओं को उनकी संपत्ति से जबरन बेदखल कर रहे हैं. लाड़काना भुट्टो परिवार का गृह शहर है.