चुनाव आयोग ने कांग्रेस के एक विज्ञापन पर रोक और दूसरे के प्री-सर्टिफिकेशन से मना कर दिया है. बीजेपी ने इन विज्ञापनों पर आपत्ति जताते हुए आयोग में शिकायत की थी.

आयोग ने कांग्रेस के एक विज्ञापन,.. गुस्सा आता है पर रोक लगा दी थी और अब उसके दूसरे वीडियो विज्ञापन के प्री-सर्टिफिकेशन से मना कर दिया है. कांग्रेस के इस विज्ञापन में 'मामा तो गयो रे' जैसे वाक्य का इस्तेमाल किया गया है. बीजेपी की आपत्ति के बाद चुनाव आयोग ने इस विज्ञापन के लिए प्री-सर्टिफिकेशन से मना किया.

आयोग के मुताबिक वीडियो में व्यक्तिगत आरोप लगाने का काम हो रहा है. आयोग की एक कमेटी ने इसे रद्द करने का फैसला लिया है. दीवाली के वीडियो विज्ञापन के प्री-सर्टिफिकेशन ना होने पर कांग्रेस भड़क उठी है. उसका कहना है चुनाव आयोग, विज्ञापनों को मंज़ूरी देने में भेदभाव कर रहा है. कांग्रेस के मुताबिक जिस विज्ञापन को आयोग ने पहले मंज़ूरी दी,उसे बाद में निरस्त करना कई सवाल खड़े करता है. दीवाली पर लोगों को शुभकामना देना तो परंपरा का हिस्सा है.

इन विज्ञापनों के बारे में बीजेपी की शिकायत ये थी कि कांग्रेस इनके ज़रिए दुष्प्रचार कर रही है. हालांकि कांग्रेस ने पूरे मामले में आयोग के फैसले के खिलाफ मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी की अध्यक्षता वाली कमेटी में अपील की है. आयोग का कहना है कांग्रेस की शिकायत पर कमेटी विचार करेगी.