मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने आख़िरकार एक और सूची जारी कर दी है. इसमें 32 नामों का एलान किया गया है.  परिवारवाद और बेटेों को टिकट दिलाने की माथापच्ची के कारण सूची जारी होने में लगातार देर हो रही थी. गोविंदपुरा से बाबूलाल गौर का टिकट काटकर उनकी बहू कृष्णा गौर को मैदान में उतार दिया गया है. इंदौर 3 से कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश को टिकट दे दिया गया है लेकिन सुमित्रा महाजन और नरेन्द्र सिंह तोमर के बेटों को टिकट नहीं मिला है.कांग्रेस से बीजेपी में आए प्रेमचंद गुड्डू के बेटे अजित को घट्टिया से पार्टी ने मैदान में उतारा है.

ये हैं बाक़ी प्रत्य़ाशी-

दिमनी- शिवमंदल सिंह तोमर

अंबाह - गब्बर सिकरवारभिंड - राकेश चौधरी

डबरा -कप्तान सिंह

भांडेर  रजनी प्रजापति
निवाड़ी - अनिल जैन

राजनगर - अरविंद पटैरिया

पथरिया - लखन पटेल

अमरपाटन - राम खिलाव पटेल

सिहावल - शिव बहादुर चंदेल

बरबाड़ा - मोती कश्यप

पाटन- अजय विश्नोई

तेंदुखेड़ा -मुलायम सिंह कौरव

गाडरवाड़ा- गौतम पटेल

शमशाबाद - राजश्री सिंह

गोविंदपुरा - कृष्णा गौर

शाजापुर - अरुण भिमावत

कालापीपल - बाबूलाल वर्मा

सोनकच्छ - राजेन्द्र वर्मा

राजपुर - अंतर पटेल

झाबुआ - जी एस डामोर

देपालपुर - श्री मनोज पटेल

इंदौर 1 - सुदर्शन गुप्ता

इंदौर 2 - रमेश मेंदोला

इंदौर 3 - आकाश विजयवर्गीय

इंदौर 4 - मालिनी गौर

इंदौर 5 - महेन्द्र हार्डिया

महू - उषा ठाकुर

राऊ -मधु वर्मा

सावेर - राजेश सोनकर

घट्टिया - अजित प्रेमचंद बौरासी

मामला इंदौर और ग्वालियर पर फंसा हुआ था. कैलाश विजयवर्गीय अपने बेटे आकाश को और सुमित्रा महाजन अपने बेटे मंदार को टिकट दिलाना चाहते थे. नरेन्द्र सिंह तोमर भी टिकट की कतार में थे. वो भी अपने बेटे देवेन्द्र के लिए टिकट मांग रहे थे. 38 सीटों के लिए लगातार मंथन चल रहा था. मामला भोपाल की गोविंदपुरा और होशंगाबाद सीट के लिए भी अटका हुआ था. गोविंदपुरा से बाबूलाल गौर और सिवनी मालवा के लिए सरताज सिंह टिकट मांग रहे थे. दोनों ही नेता उम्र के लिहाज़ से पार्टी के पैमाने पर खरे नहीं उतर रहे थे.

बीजेपी 192 प्रत्याशियों की पहले ही घोषणा कर चुकी थी. पहली सूची में 177 नाम उसने घोषित किए थे.