नई दिल्ली: मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने सभी 230 सीटों पर प्रत्याशियों का ऐलान कर दिया है. लेकिन, टिकट बंटवारों को लेकर अब बवाल शुरू हो गया है. प्रत्याशियों के ऐलान के बाद व्यापमं घोटाला के विसिल ब्लोअर डॉक्टर आनंद राय ने कहा कि मुझे कांग्रेस की तरफ से टिकट नहीं मिला है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मुझे टिकट का भरोसा दिया था. मेरी वजह से कांग्रेस ने संजीव संक्सेना को टिकट नहीं दिया है. संजीव सक्सेना व्यापमं मामले में आरोपी हैं.

टिकट नहीं मिलने पर कांग्रेस नेता संजीव सक्सेना ने कहा कि मैं निर्दोष हूं और सच्चाई सामने जरूर आएगी. उन्होंने कहा कि मुझे ठगा गया है, इसके बावजूद मैंने पार्टी के लिए काम करने के बारे में सोचा. गंभीरता से विचार करने पर मुझे लगा कि यह गलत होगा. मुझे जरूरतमंद लोगों के लिए चुनाव लड़ना होगा. टिकट ऐलान के बाद संजीव सक्सेना दिग्विजय सिंह से मिलने गए. मुलाकात के बाद संजीव सक्सेना ने कहा कि मैं निर्दलीय चुनाव लड़ूंगा.
कांग्रेस ने 17 उम्मीदवारों की पांचवीं लिस्ट जारी कर दी है. दिवाली के दिन चौथी लिस्ट में 29 प्रत्याशियों का ऐलान किया गया था. पांचवी लिस्ट के साथ ही कुल 230 सीटों पर कांग्रेस ने अपने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है. कांग्रेस ने सरताज सिंह को होशंगाबाद विधानसभा सीट से मैदान में उतारा है. सरताज सिंह ने बीजेपी का दामन छोड़कर  कांग्रेस में शामिल हो गए हैं.
मानपुर सीट अभी होल्ड पर
मानपुर सीट को अभी होल्ड पर रखा गया है. यह सीट अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है. वहीं, पन्ना सीट से शिवजीत सिंह को मैदान में उतारा गया है. बीजेपी ने सीट से वर्तमान विधायक और मंत्री कुसुम सिंह महदेले का टिकट काटकर बृजेंद्र सिंह को मैदान में उतारा है.