यूपी में आगरा के मलपुरा स्थित ड्रापिंग जोन में गुरुवार की दोपहर दर्दनाक हादसे में 11 पैरा के जवान की मौत हो गई। हादसा एएन 32 विमान से जंप के दौरान हुआ। हरदीप सिंह का पैराशूट नहीं खुला। 11 हजार फुट की ऊंचाई से वह सिर के बल जमीन पर आकर गिरे। गंभीर हालात में उन्हें मिलिट्री हॉस्पिटल लाया गया था। जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया।

मलपुरा पुलिस के अनुसार घटना दोपहर 12 बजकर 15 मिनट की है। हवलदार अखंड प्रताप सिंह ने थाने पर हादसे की सूचना दी। बताया कि समाना, पटियाला (पंजाब) निवासी हरदीप सिंह (26) ने फ्री फॉल जंप लगाई थी। पैराशूट नहीं खुला। उनकी मौत हो गई। वह 11 पैरा स्पेशल फोर्स के जवान थे। सूचना पर मलपुरा पुलिस मिलिट्री हॉस्पिटल पहुंची। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। सेना की तरफ से हरदीप सिंह के परिजनों को सूचना दी गई। वे आगरा के लिए चल दिए थे। हरदीप सिंह ने एएन-32 हजार से 11 हजार फुट की ऊंचाई से छलांग लगाई थी। वह अकेले नहीं थे। कई और जवानों ने छलांग लगाई थी। हरदीप सिंह का पैराशूट नहीं खुला। 

दोनों पैराशूट दे गए धोखा-
पैरा जंपिंग के दौरान दो पैराशूट होते हैं। एक मुख्य और दूसरा रिजर्व। हरदीप सिंह ने पहले मुख्य पैराशूट खोला था। वह थोड़ा सा खुला और उसकी रस्सियां आपस में लिपट गईं। यह देख उन्होंने रिजर्व पैराशूट खोला। वह भी नहीं खुला। रिजर्व पैराशूट मुख्य पैराशूट में लिपट गया। इस दौरान किसी को कुछ करने का मौका ही नहीं मिला। हरदीप सिंह अविवाहित थे। शुक्रवार को सैन्य सम्मान के साथ उनका पार्थिव शरीर उनके घर भेजा जाएगा।

आठ माह में यह दूसरा हादसा-
मलपुरा ड्रापिंग जोन में आठ माह में यह दूसरा हादसा है। 23 मार्च को भी इसी अंदाज में घटना हुई थी। मूलत: पलवल (हरियाणा) निवासी लांस नायक सुनील कुमार (27) ने भी एएन-32 विमान से छलांग लगाई थी। उन्होंने छलांग लगाई। पैराशूट न खुलने की वजह से वह सीधे सिर के बल जमीन पर गिरे थे। उन्हें भी बचाया नहीं जा सका था।

एसपी आरए अखिलेश नारायण ने कहा कि थाने पर पैरा ब्रिगेड के जवान की मौत की सूचना दी गई थी। पैराशूट क्यों नहीं खुला, इसकी जांच विभागीय अफसर ही करेंगे।