नए साल में वेस्ट यूपी के लोगों के लिए दिल्ली का सफर कुछ सुहाना होने की उम्मीदें हैं। नए साल में ही यूपी गेट से हापुड़ और डासना होते हुए मेरठ तक एक्सप्रेस वे तैयार हो जाएगा। इस एक्सप्रेस-वे के मेरठ तक बनते ही घंटों के जाम का सफर मिनटों में सिमट जाएगा। दूसरी तरफ ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे पहले ही चालू हो गया है।

केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्रालय ने मेरठ-दिल्ली एक्स्प्रेस-वे को पूरा करने के लिए मई 2019 तक का टारगेट दिया है। मेरठ-दिल्ली के बीच प्रस्तावित रैपिड ट्रांजिट ट्रेन का प्रोजेक्ट सीधे मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस-वे से जुड़ा है। एनएच-58 के डिवाइडर को और चौड़ा कर इस पर रैपिड ट्रेन के पिलर खड़े किए जाएंगे। मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस-वे चालू हो जाने से एनएच-58 पर ट्रैफिक का बोझ कम हो जाएगा और लोग मेरठ से मोदीनगर-मुरादनगर-गाजियाबाद तक जाम में फंसने के बजाय मेरठ से डासना होकर एक्सप्रेस-वे से निकल सकेंगे।

रैपिड रेल के प्रोजेक्ट पर काम इसी साल के अंत तक शुरू होने के आसार हैं। गाजियाबाद के डासना में तीन एक्सप्रेस वे लिंक करेंगे। यहां मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस-वे, ईस्टर्न पैरीफेरल एक्सप्रेस-वे, एनएच-24 एक साथ मिलेंगे। इस तरह से मेरठ और सहारनपुर मंडल के लोगों को इन दोनों एक्सप्रेस-वे का जबरदस्त लाभ मिलेगा और दिल्ली की राह आसान होगी।