नई दिल्‍ली : जम्‍मू और कश्‍मीर के शोपियां में सोमवार सुबह सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई. यह मुठभेड़ शोपियां के संग्रान गांव में हो रही है. बताया जा रहा है कि सुरक्षा बलों को इलाके में कुछ आतंकियों के छिपे होने की सुचना मिली थी, इसके बाद आतंकियों के तलाश के लिए अभियान चलाया गया. इसी बीच आतंकियों ने सुरक्षा बलों पर फायरिंग शुरू कर दी. सुरक्षा बलों के अनुसार इलाके में 2 से 3 आतंकियों के छिपे होने की आशंका जताई जा रही है. इलाके को घेर लिया गया है.

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में गुरुवार को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में हिज्बुल मुजाहिदीन के दो आतंकवादी मारे गए थे. मारे गए दोनों आतंकी संगठन के कमांडर रियाज नायकू के नजदीकी थे. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पुलवामा जिले के अवंतिपुरा के शारशाली इलाके में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने पर बृहस्पतिवार तड़के सुरक्षा बलों ने तलाशी और घेराबंदी अभियान चलाया.
उन्होंने बताया कि तलाशी अभियान चल ही रहा था कि आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलियां बरसाईं. सुरक्षा बलों ने इसका जवाब दिया और इस तरह मुठभेड़ शुरू हो गई. अधिकारी ने कहा, ‘‘मुठभेड़ में दो आतंकवादियों को मार गिराया गया. मुठभेड़ स्थल से उनके शव बरामद कर लिए गए हैं.’’ 

मारे गए आतंकियों की पहचान अदनान अहमद लोन उर्फ यूकाब और आदिल बिलाल भट उर्फ उमैर अल हिज्बी के रूप में की गई है. अधिकारी ने बताया कि दोनों हिज्बुल मुजाहिदीन से जुड़े थे.

पुलिस रिकॉर्ड के मुताबिक लोन पुलवामा के लिए हिज्बुल का स्वयंभू जिला कमांडर था. उन्होंने बताया कि वह आतंकी संगठन के शीर्ष कमांडरों में से एक था और वर्ष 2015 से उसका आतंक का लंबा इतिहास रहा है. वह रियाज नायकू का करीबी सहयोगी था और श्रीनगर में एक मुठभेड़ स्थल से भाग निकला था.

दोनों ही आतंकी सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर हमले और आम नागरिकों के उत्पीड़न के मामलों में वांछित थे. मुठभेड़ स्थल से हथियार और गोला-बारूद भी बरामद किया गया है. बीते आठ दिन में दो दर्जन से अधिक आतंकवादियों को सुरक्षा बलों ने मार गिराया है.