बेंगलुरू: विश्व हिंदू परिषद ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने के लिए एक अध्यादेश लागू करने पर जोर देने के वास्ते रविवार को यहां ‘‘जनाग्रह’’ सम्मेलन आयोजित किया. बेंगलुरू के अलावा मैसुरू, मांड्या, कोलार और हसन समेत राज्य के विभिन्न हिस्सों से हजारों विहिप सदस्यों ने कार्यक्रम में भाग लिया. विहिप सदस्यों ने शहर के विभिन्न हिस्सों से रैलियां भी निकाली.

सम्मेलन को संबोधित करते हुए विहिप के राष्ट्रीय महासचिव मिलिंद परांडे ने दावा किया कि हिंदू उच्चतम न्यायालय में लंबित अयोध्या भूमि विवाद मामले के निस्तारण में ‘‘अत्यधिक देरी’’ को लेकर संयम खो रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘‘हिंदूओं ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए सदियों से इंतजार किया है लेकिन अदालत ने मामले को स्थगित कर दिया. 

हम संस्थान का सम्मान करते हैं लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि हम न्याय के लिए अनंतकाल तक इंतजार कर सकते हैं. बहुसंख्यक समुदाय धैर्य खो रहा है.’’ परांडे ने केंद्र सरकार से अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए अध्यादेश लाने का केंद्र सरकार से अनुरोध किया.