दिल्ली के चांदनी चौक में एक दुकान के नीचे बने तहखाने में करीब 400 सीक्रेट लॉकर मिलने से हड़कंप मच गया है. चौंकाने वाली बात है कि रविवार तक यहां से 30 करोड़ कैश निकाला जा चुका है. 
सवाल उठ रहे हैं कि आखिर यहां इतना पैसा कहां से आया. इनकम टैक्म की टीम इसकी जांच कर रही है. जहां सीक्रेट लॉकर मिले हैं वहां राजहंस सोप प्राइवेट लिमिटेड नाम से साबुन की दुकान थी और पाकिस्तानी ड्राई फ्रूट भी बेचे जाते थे.
दिवाली के पहले यानी पिछले एक महीने से भी ज्यादा वक्त से यहां इनकम टैक्स की टीम छानबीन कर रही है. इनकम टैक्स के अधिकारी ब्लैक मनी और हवाला का पैसा होने का अंदेशा जता रहे हैं. साथ ही आतंकी फंडिंग एंगल से भी जांच चल रही है.
एनआईए ने भी टेरर फंडिंग कनेक्शन से अब तक इनकार नहीं किया है. एनआईए के सूत्रों ने मेल टुडे को बताया है कि इस दुकान में जो ड्राई फ्रूट बेचा जाता था वह पाकिस्तान और अफगानिस्तान से आता था. 
सूत्र ने ये भी बताया कि पिछले साल घाटी में आतंक फैलाने के लिए पाकिस्तानी फंडिग हासिल करने के मामले में एनआईए ने एक फ्रूट डीलर को हिरासत में लिया था. इस सिलसिले में कई शहरों में छापे मारे गए थे. (प्रतीकात्मक फोटो)
एनआईए सूत्र के मुताबिक, आईटी डिपार्टमेंट की ओर से छापे मारने की प्रक्रिया पूरी होने के बाद एजेंसी अपनी जांच करेगी. 
जांच के दौरान लॉकर्स के मालिक का पता लगाया जाएगा. दुकान के मालिक के ट्रैवल डिटेल्स, कॉल लॉग्स, सोशल नेटवर्किंग एक्टिविटिज और बैंक ट्रांजैक्शन की भी छानबीन की जाएगी. (प्रतीकात्मक फोटो)