राजू करणी, जम्मू : सीमा पार से नियंत्रण रेखा के बाद अब अंतरराष्ट्रीय सीमा पर हालात बिगाड़ने के लिए पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले हिस्से में आंतकी गतिविधियां तेज हो गई हैं. नियंत्रण रेखा पर भारतीय सेना की सख्त चौकसी और बर्फवारी के कारण बंद हो रहे दर्रों से घुसपैठ मुश्किल हो गई है. ऐसे में बौखलाए आतंकी अब राजोरी-पुँछ और जम्मू क्षेत्र में अंतराष्ट्रीय सीमा पर गोलाबारी की आड़ में घुसपैठ की फिराक में हैं. सरहद के उस पार पाकिस्तानी कब्जे वाले क्षेत्र में आतंकियों की बढ़ती हलचल से सरहद पर घुसपैठ का खतरा बढ़ने लगा है.

आने वाले दिनों में अंतराष्ट्रीय सीमा से घने कोहरे की आड़ में घुसपैठ करने की साज़िश रच रहे आंतकियों को सर्द मौत देने के लिए BSF ने भी जम्मू के कठुआ से लेकर अखनूर तक लंबी 192 किमी की अंतरराष्ट्रीय सीमा के लिए winter  management strategy बना ली है.सूरज ढलने के बाद या धुंध में कोई भी हथियारबंद अगर सीमा के पास मंडराता दिखाई दिया तो उसे गोली मार दी जाएगी. ऐसे आदेश सीमा चौकिओं पर तैनात सभी जवानो को दे दिए गए हैं. नवंबर के महीने में सुरक्षाबलों के आधा दर्जन जवान दुश्मन के sniping फायर से शहीद हुए थे. इससे बचने के लिए जवानो को आधुनिक बुलेट प्रूफ जैकेट्स से लैस हो कर बॉर्डर पेट्रोलिंग पर जाने की नसीहत  दी गयी है.

आतंकियों के नापाक इरादों को विफल करने के लिए सभी बॉर्डर पोस्ट्स पर लम्बी दूरी तक मार करने वाले हथियार लगाए गए हैं. मौसम की चुनौतिओं को देखते हुए सुरक्षा ग्रिड को मजबूत किया गया है. अंधेरे और घने कोहरे में देखने के लिए BSF जवानों को आधुनिक थर्मल इमेजर, हाई रेंज नाईट विज़न दिए गए हैं. अंतराष्ट्रीय सीमा पर तारबंदी कर जगह जगह स्मार्ट सेंसर और cctv कैमरे लगाए गए हैं.
खुफिया सूत्रों के अनुसार जम्मू में पाकिस्तान के साथ लगती अंतरराष्ट्रीय सीमा के दूसरी तरफ पाकिस्तानी कब्जे वाले गंडेयाल, सैदांवाली, टीपू, सकरोरी, भोई ब्राह्मणा, जंगूचक, लौंडी कलां, चौहाला, धमाल नाला क्षेत्र में सक्रीय आतंकवादी ग्रुप भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ करने को तैयार बैठे हैं.

सूत्रों के अनुसार आतंकी पानी के रास्ते भी घुसपैठ कर  सकते हैं. इसे देखते हुए BSF के जवान अखनूर सेक्टर से  बह कर पाकिस्तानी कब्जे वाले क्षेत्र में जा रहे चिनाब  दरिया में स्पीड बोट्स  से पेट्रोलिंग करते रहते हैं. सुरक्षा बलों के अनुसार जम्मू में कठुआ से लेकर अखनूर तक अंतराष्ट्रीय सीमा और अखनूर से लेकर कश्मीर के उडी कुपवाड़ा तक नियंत्रण रेखा पर  पाकिस्तान की किसी भी नापाक हरकत की उसे सजा दी जाएगी.