कातोवित्स: सोमवार को पोलैंड में आधिकारिक रूप से शुरू हुए सीओपी24 शिखर सम्मेलन में संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा कि विश्व विनाशकारी जलवायु परिवर्तन को रोकने की अपनी योजना की “राह से दूर” है. हाल ही में एक के बाद एक पर्यावरण संबंधी घातक रिपोर्टें सामने आईं जिनमें दि्खाया गया कि भूमंडलीय तापमान में बेलगाम इजाफे को रोकने के लिए मानव को अपने ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जनों में जबरदस्त कटौती करनी होगी.  इन रिपोर्टों पर गुतारेस ने प्रतिनिधि मंडलों से कहा, “हम अब भी बहुत कुछ नहीं कर रहे हैं, न ही तेज गति से बढ़ रहे हैं. ”

उल्लेखनीय है कि 2015 के पेरिस जलवायु समझौते पर हस्ताक्षर करने वाले करीब 200 राष्ट्रों को वैश्विक तापमान वृद्धि को दो डिग्री सेल्सियस से नीचे, और संभव हो सके तो 1.5 डिग्री सेल्सियस की सुरक्षित सीमा तक रखने के लिए इस महीने एक नियम पुस्तिका को अंतिम रूप देना होगा.  उधर, जलवायु परिवर्तन की दर मानवीय प्रयासों को धता बताते हुए बहुत तेजी से बढ़ रही है.
अब तक केवल एक सेल्सियस वार्मिंग बढ़ने मात्र से धरती को जंगल में आग लगने की घटनाओं, अत्यंत सूखे और समुद्र तल परिवर्तन के चलते भयावह तूफानों का प्रकोप झेलना पड़ा है.  गुतारेस ने कहा, “दुनिया भर को तहस-नहस करने वाले जलवायु के विनाशकारी प्रभावों को देखने के बावजूद प्रलयकारी एवं अपरिवर्तनीय जलवायु परिवर्तन को रोकने के लिए न तो हम पर्याप्त प्रयास नहीं कर रहे हैं, न ही तेज गति से बढ़ रहे हैं. ”