नई दिल्ली, वीवीआईपी चॉपर अगस्ता वेस्टलैंड डील की जांच कर रही सीबीआई को बड़ी कामयाबी मिली है. लंबी कोशिशों के बाद आखिरकार डील के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल का भारत आना तय हो गया है.

दुबई जेल में बंद मिशेल प्रत्यर्पण के तहत आज भारत पहुंच जाएगा, जिसके बाद उसे दिल्ली में सीबीआई की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा.

पिछले महीने ही दुबई की अदालत ने निचली अदालत का फैसला बरकरार रखते हुए ये माना था कि मिशेल का भारत प्रत्यर्पण किया जा सकता है. कोर्ट ने मिशेल के वकीलों की गुहार खारिज करते हुए ये आदेश दिया था. जिसके बाद अब उसे भारत लाया जा रहा है, जहां उससे चॉपर डील की पूछताछ की जाएगी.

भारत के लिहाज से देखा जाए तो यह एक बड़ी कामयाबी है, क्योंकि अगस्ता वेस्टलैंड डील में देश के शीर्ष राजनीतिक नेतृत्व पर सवाल उठते रहे हैं. खासतौर पर कांग्रेस की सीनियर लीडरशिप पर भी आरोप लगते रहे हैं. हालांकि, हाल के दिनों में क्रिश्चियन मिशेल हर फोरम पर हुई बातचीत में चॉपर डील में कांग्रेस नेतृत्व के शामिल होने की बात खारिज करता रहा है.

पिछले दिनों इंडिया टुडे ने दुबई की जेल से ही क्रिश्चियन मिशेल का इंटरव्यू किया था. जिसमें उसने अपने पिछले बयान पर कायम रहते हुए कहा था कि इस डील में यूपीए सरकार की लीडरशिप शामिल नहीं थी. मिशेल ने कहा कि उसे एक डील साइन करने के लिए कहा गया था जिसमें कांग्रेस नेतृत्व के खिलाफ बातें थीं, इस डील को उसने ठुकरा दिया.