जोधपुर: प्रदेश में विधानसभा चुनवों को लेकर सभी राजनीतिक पार्टियों का चुनाव प्रचार अपने अंतिम दौर में है. यही कारण है कि बीजेपी-कांग्रेस के सभी स्टार प्रचारक राजस्थान में बैक टू बैक रैसियां और सभाएं कर रहे हैं. इसी कड़ी में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन मंगलवार को जोधपुर पहुंचे. जोधपुर में उन्होने मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जोधपुर में जो सभा हुई है उसके बाद कांग्रेस पूरी तरह पस्त हो गई है.

शाहनवाज हुसैन ने कहा पहले कांग्रेस बड़े-बड़ी बातें कर रही थी लेकिन पीएम की सभा के बाद कांग्रेस पूरी तरह पस्त हो गई है. पिछली बार विधानसभा के चुनाव हुए थे उस समय भाजपा ने इस संभाग में 33 में से 30 सीटें जीती थी लेकिन प्रधानमंत्री के नरेंद्र मोदी की सभा के बाद इस बार कांग्रेस संभाग में शून्य पर आउट हो जाएगी. वहीं उन्होंने कहा कि कांग्रेस राजस्थान में बंटी हुई है.

कांग्रेस पर वार करते हुए शाहनवाज हुसैन ने कहा कि कांग्रेस जब चुनाव हार ने लगती है तो समाज को बांटने में लग जाती है. चाहे जाति, धर्म के नाम पर हो भाषा के नाम पर राजस्थान एक ऐसा प्रदेश रहा है जिसने बंटवारे को कभी स्वीकार नहीं किया है. राजस्थान में इस बार जनता भारतीय जनता पार्टी के साथ खड़ी होगी. प्रदेश में फिर से भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनेगी


शाहनवाज हुसैन ने कहा की भारतीय जनता पार्टी किसी भी सूरत में जातिवाद को बढावा नहीं देती. भारतीय जनता पार्टी जातीय भेदभाव नहीं करती. वहीं उन्होंने बुलंदशहर में हुए हत्याकांड को लेकर कहा कि इस हत्याकांड का पर्दाफाश करेंगे और जल्दी ही आरोपियों की गिरफ्तारी की जाएगी यूपी के बुलंदशहर में हालात नियंत्रण में है. उत्तर प्रदेश की सरकार को बदनाम करने के लिए जो विरोधियों ने साजिश रची है उसका हम पर्दा फास करेंगे.

वहीं शाहनवाज से राम मंदिर के सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा मामला अदालत में है. उन्होंने टोंक में यूनुस खान को उतारने को लेकर मीडिया के सवाल के जवाब में  कहा कि हमने सचिन पायलट को घेरने के लिए यूनुस खान को उतारा है और निश्चित तौर पर वहां से यूनुस खान जीतेंगे. जबकि उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के घेरने के लिए मजबूत प्रत्याशी नहीं उतारने के सवाल पर उन्होंने कहा कि हमारे सर्वे में शंभू सिंह खेतासर मजबूत प्रत्याशी है और इस वजह से अशोक गहलोत को वो ही हरा सकते हैं इसीलिए हमने खेतासर को गहलोत के सामने उतारा है.

साथ ही उत्तर प्रदेश में उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा जिलों के नाम बदलने को लेकर उन्होंने कहा कि इतिहास के अंदर गलत नाम रखे गए थे उसका हमने सुधार किया है, ना कि हमने नाम बदला है. उन्होंने मुंबई चेन्नई कोलकाता का उदाहरण देते हुए कहा कि जिस तरीके से इनके नाम बदले गए उसा तरह इन शहरों के नाम भी बदले गए है.