वेलिंगटन : दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति ने मंगलवार को कहा कि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन की देश की ऐतिहासिक यात्रा को लेकर कोई समयसीमा तय नहीं की गयी है, हालांकि दोनों देशों को यह वार्ता इसी साल होने की उम्मीद है. आधिकारियों का कहना है कि किम जोंग की इस यात्रा के लिए खास तैयारियां की जा रही हैं, खास तैयारियां पूरी होने के बाद ही समयसीमा का निर्धारण किया जाएगा. 

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई-इन ने कहा कि यात्रा के समय से कहीं अधिक महत्वपूर्ण यह है कि इससे कोरियाई प्रायद्वीप में परमाणु निरस्त्रीकरण को बढ़ावा मिलेगा और यह किम एवं अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच बातचीत को दिशा देगा. मून ने कहा, ‘‘दक्षिण एवं उत्तर कोरिया के दो देशों में विभाजित होने के बाद से यह पहली बार होगा जब उत्तर कोरिया का कोई नेता दक्षिण कोरिया की यात्रा करेगा.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि इसके लिये कोई समयसीमा तय नहीं की गयी है, लेकिन फिर भी यह बहुत अर्थपूर्ण है.’’ 
मून ने ये टिप्पणी अपनी न्यूजीलैंड की यात्रा के अंतिम दिन संवाददाताओं से बातचीत के दौरान कीं. अर्जेंटीना में जी-20 देशों के शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के बाद मून एवं उनकी पत्नी किम जुंग-सूक बीते रविवार को दक्षिण प्रशांत देश पहुंचे.

मून ने कहा कि अब तक ऐसी संभावना है कि किम की यात्रा साल के आखिर तक हो जाये. मून ने इस साल तीन बार किम से मुलाकात की है और सितंबर में उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयांग में उनकी तीसरी मुलाकात के बाद मून ने कहा था कि किम ने 2018 में दक्षिण कोरिया की यात्रा पर सहमति जतायी है. मून ने जून में ट्रंप एवं किम की मुलाकात के अलावा अमेरिका एवं उत्तर कोरिया के बीच कई उच्च स्तरीय वार्ताओं को गति दी. न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डेन ने भी मून से मुलाकात के बाद उनके प्रयासों की सराहना की.