सिर्फ खूबसूरत साड़ी खरीद लेने भर से बात नहीं बनती। इस पारंपरिक भारतीय परिधान की खूबसूरती का काफी दारोमदार ब्लाउज पर भी है। अब सवाल यह है कि ब्लाउज कैसा बनवाया जाए? ब्लाउज बनवाने के लिए माप देते वक्त किन-किन बातों को ध्यान में रखा जाए
फिटिंग पर दें ध्यान
किसी भी साड़ी या लहंगे जैसी ड्रेस की लुक का सारा दारोमदार उसके साथ पहने जाने वाले ब्लाउज की लुक पर निर्भर करता है। मान लीजिए आपने बेहद खूबसूरत लहंगा खरीदा है, लेकिन अगर उसके साथ के ब्लाउज की फिटिंग ठीक नहीं है, तो उस लहंगे की चमक फीकी पड़ जाएगी। हर बॉडी शेप के हिसाब से अलग-अलग कट के ब्लाउज बनाए जाते हैं। इसलिए अपनी कद-काठी के हिसाब से ही अपने लिए सही स्टाइल का चुनाव करें, साथ ही इस बात पर भी विशेष ध्यान दें कि ब्लाउज के नीचे लाइनिंग (अस्तर) कैसा लगाया जा रहा है। लाइनिंग का ब्लाउज की फिटिंग पर गहरा प्रभाव पड़ता है। इसके अलावा अपने ब्लाउज में हमेशा इतना अतिरिक्त कपड़ा जरूर रखवाएं कि जरूरत के हिसाब से भविष्य में उसे ढीला या कसा जा सके। 
अगर आपका लहंगा और दुपट्टा, दोनों बहुत भारी हैं तो बेहतर होगा कि ब्लाउज हल्का ही रखें। पूरे ब्लाउज पर काम करवाने की बजाय सिर्फ गले और बाजुओं पर खूबसूरत काम (डिटेलिंग) करवाएं, क्योंकि दुपट्टा लेने के बाद सिर्फ गले और बाजू का हिस्सा ही नजर आता है और ब्लाउज जितना हल्का होगा, उतना ही पहनने में भी आरामदायक रहेगा। दरअसल, ब्लाउज पर जरूरत से ज्यादा काम करवाने से कपड़ा लटकने लगता है और फिटिंग भी ठीक नहीं आती। नतीजतन या तो ब्लाउज का गला लटकने लगता है या फिर बाजुएं चुस्त फिटिंग की नहीं बन पाती, जो देखने में बहुत भद्दा लगता है। 
दुपट्टा लें कुछ इस तरह
आपके ब्लाउज की पूरी लुक का पसंद किया जाना बहुत हद तक इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप दुपट्टा कैसे लेने वाली हैं। मान लीजिए, ब्लाउज आपने बहुत हैवी वर्क का बनवा लिया है और उतना ही काम दुपट्टे पर भी है, तो संभव है कि दुपट्टा ब्लाउज में उलझता रहे। यह देखने में बहुत अटपटा सा लगेगा। या फिर वेलवेट के दुपट्टे के साथ वेलवेट का ही हैवी वर्क वाला ब्लाउज, कुछ खास नहीं लगेगा, क्योंकि ब्लाउज का सारा काम तो दुपट्टे के नीचे ही छिप जाएगा। इसलिए दुपट्टा हमेशा ऐसे पहनें कि ब्लाउज की खूबसूरती निखर कर आए। वैसे आजकल हैवी ब्लाउज के साथ नेट के चौड़े बॉर्डर वाले दुपट्टे बहुत चलन में हैं।  
फाइनल लुक से पहले
आपने अपनी पसंद का लहंगा भी खरीद लिया और अपने मन पसंद स्टाइल का ब्लाउज भी सिलवा लिया और उसके साथ की मैचिंग ज्वेलरी भी तैयार है लेकिन अपने खास मौके पर अपनी इस पोशाक को पहनने से पहले एक बार पूरी ड्रेस को ज्वेलरी के साथ पहनकर ट्राई करना बेहद जरूरी है, ताकि आप इस बात का अंदाजा लगा  सकें कि चुन्नी किस तरह से पहननी है। आपकी ज्वेलरी आपकी ड्रेस के साथ अच्छी लग रही है या नहीं और आपका ब्लाउज पहनने में आरामदायक है या नहीं? मतलब यह है कि कहीं से ब्लाउज ज्यादा कसा हुआ तो नहीं है या कहीं एक तरफ से ज्यादा लटक तो नहीं रहा? नीचे झुकने पर गला कहीं लटक तो नहीं रहा और सबसे बड़ी बात यह है कि अपना डिजाइनर ब्लाउज पहनने के बाद क्या आप आराम से सांस ले पा रही हैं? क्योंकि कई बार महिलाएं अपने वजन को छुपाने के चक्कर में जरूरत से ज्यादा कसा हुआ ब्लाउज बनवा लेती हैं और अंत में सबसे महत्वपूर्ण बात यह कि हमेशा एक सिंपल फैब्रिक में मैचिंग ब्लाउज आड़े वक्त के लिए जरूर बनवा कर रखें, ताकि कोई दिक्कत होने पर आप असमंजस की स्थिति से तुरंत बच सकें।