इन्दौर । इत्र, लोबान की महक के बीच सन्दल रस्म के साथ खजराना में हज़रत नाहरशाह वली के 70वें उर्स का आगाज़ हुआ। इस ख़ास मौके पर हज़रत नाहरशाह वली दरगाह इंतेजामिया कमेटी के अध्यक्ष हाजी युनुस पटेल, उर्स कमेटी के अध्यक्ष हाजी सलीम पठान, उपाध्यक्ष सैयद वाहिद अली, उपाध्यक्ष अन्नू पटेल, सचिव असगर पटेल सहित, संयोजक सैयद शाहिद अली सहित बड़ी संख्या में अकीदतमंद मौजूद थे। फातिहा ख़्वानी के साथ उर्स की कामयाबी और अमन व सलामती की दुआएं हुई। रात को दरगाह मैदान पर शहंशाह-ए-मालवा के उर्स मुबारक पर नूरानी तक़रीर हुई। जिसमें मुसलमानों को किरदार रोशन करने का पैगाम दिया गया। मारहेरा शरीफ उत्तरप्रदेश से बतौर ख़ास मेहमान हज़रत मौलाना  सैयद नजीब हैदर मियां साहब जैसे ही मंच पर आए "अल्लाहो अकबर" के नारों से उनका इस्तक़बाल किया गया। 
मौलाना नजीब हैदर साहब ने सादगी भरे लहजे में असरदार तक़रीर करते हुए कहा इस्लाम अमन व सलामती का नाम है। लिहाज़ा जहां भी रहो लोग आप से खुश रहें।आजकल मुसलमान तरीकत की तरफ भाग रहे हैं, शरीयत से दूर हो रहे हैं। रेवड़ी की तरह पीर मुरीद बनाये जा रहे हैं। पीरी मुरीदी के नाम बंटे नहीं एकजुट हों। बुज़ुर्गों का अदब करें और ये तहज़ीब बच्चों को भी सिखाएं।लेकिन आज हम अपनी जड़ों को हम कमज़ोर करते जा रहे हैं। उन्होंने कहा आज हालात ये है कि जलसे महंगे होते जा रहे हैं और मदरसे व स्कूल कमज़ोर होते जा रहे हैं, फ़िज़ूल खर्ची से बचे,एक रोटी कम खाएं लेकिन बच्चों को ज़रूर पढ़ाएं।उन्होंने कहा हम ज़िन्दगी का कीमती वक़्त गपशप में गुज़ार देते हैं। होटलों पर बैठकर पूरी दुनिया की फिक्र करते हैं, सब पर तंज कसते हैं, लेकिन कभी खुद के गिरेबान में झांक कर अपने अमल का जायज़ा नहीं लेते। हम खुद सुधर जाएं क़ौम अपने आप सुधर जाएगी। जो कमेटी या लोग बेहतर काम कर रहे हैं,उनकी टांग मत खींचो, उनका साथ दो या न दो लेकिन उनकी तरफ मुस्करा कर ही देख लो तो ये भी नेकी में शुमार होगा। इंसानियत की ख़िदमत के जज़्बे को अपने अंदर पैदा करो और पैगम्बर के बताए हुए रास्ते पर ही कामयाबी है।
इस मौके पर जामिया अशरफिया मुबारकपुर उत्तरप्रदेश के मुफ़्ती निज़ामुद्दीन साहब ने कहा इल्म की कमी से गलतफहमियां होती हैं। उन्होंने कहा मज़हब से दूरी होने की वजह से ज़िन्दगी में परेशानियां आ रही हैं। राजस्थान के मुफ़्ती शमसुद्दीन साहब ने भी ख्यालात का इज़हार किया। देर रात तक तक़रीर का सिलसिला चलता रहा। आज 13 फरवरी को सुबह क़ुरआन ख़्वानी होगी और कल सूफियाना कव्वाली होगी। कल 14 फरवरी को कलेक्टर लोकेश जाटव व अन्य प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में परम्परागत चादर पेश की जाएगी।
:: आज सजेगी मुशायरे की महफ़िल :: 
उर्स में हर साल मोहब्बत और अदब की महफ़िल सजती है। जिसके तहत आज 13 फरवरी को रात 9 बजे से दरगाह मैदान पर ऑल इंडिया मुशायरा होगा। कमेटी के उपाध्यक्ष सैयद वाहिद अली ने बताया मुशायरा में मुल्क के नामवर शायर कलाम सुनाएंगे और शायरी के ज़रिए भाईचारे का पैगाम देंगे। जिसमें प्रमुख रूप से कवि सत्यनारायण सत्तन, बुरहानपुर से नईम अख्तर खादमी, एटा उत्तप्रदेश से अज़्म शाकिरी, फ़िरोज़ाबाद से हाशिम फिरोजाबादी, भुसावल से हामिद भुसावली, चंदेरी से असरार चंदेरवी, जबलपुर से मन्नान फ़राज़, मालेगांव से सुंदर मालेगांवी, रुड़की से अल्तमश अब्बास, इंदौर से अहमद निसार, नूह आलम, इमरान युसुफ़ज़ई, शाहनवाज़ अंसारी, अच्छे मियां नूर, रउफ इंदौरी की उम्दा शायरी सुनने को मिलेगी।