जबलपुर। जिले में धान खरीदी के बाद भुगतान न होने से नाराज किसानों का दल मंगलवार को कलेक्ट्रट पहुंचा। किसानों ने विरोध प्रदर्शन किया। साथ ही चेतावनी भी दी कि यदि उनका भुगतान शीघ्र नहीं किया गया तो वे सीएम कमलनाथ के सामने प्रदर्शन कर अपनी समस्या रखेंगे। गौरतबल है कि १६ फरवरी को शहर में वैâबिनेट मीटिंग होने वाली है। जिसमें प्रदेश के मुख्यमंत्री सहित तमाम मंत्री शामिल होंगे। बैठक के पहले किसानों की चेतावनी प्रशासन के लिए चुनौती बन गया है।
भारत कृषक समाज के अध्यक्ष केके अग्रवाल ने बताया कि कलेक्टर छवि भारद्वाज ने पिछले सप्ताह उन्हें आश्वासन दिया था कि धान खरीदी के लिए पोर्टल खुल जाएंगे। एकसप्ताह के भीतर किसानों की उपज का भुगतान भी कर दिया जाएगा। लेकिन अभी तक किसानों का भुगतान नहीं किया गया है। जिससे किसान आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं। किसान साहूकारों के चक्कर में पड़कर ब्याज चुकाने मजबूर हैं।ये हैं किसानों की समस्याएं
किसानों की टोकन प्राप्त, तुली हुई, बाहर मैदान में पड़ी धान को वेयरहाउस के अंदर करा कर कम्प्यूटर में चढ़ाने के लिए ३ दिन का आश्वासन कलेक्टर ने दिया था।इसके बाद भी स्थिति जस की तस बनी हुई है। खुले आसमान तले हजारों क्विंटल धान रखी है। किसान महीनों से खरीदी केन्द्र पर अपनी उपज की तकवारी करने के लिए मजबूर हैं। 
ये भी समस्या........
गेहूं के पंजीयन की अंतिम तिथि २३ फरवरी रखी गई है, लेकिन अभी तक पंजीयन प्रारंभ नहीं हुआ है। ऐसे में किसान दुविधा में हैं कि आखिर वे अपना गेहूं बेचेंगे कहां। किसानों ने जल्द ही खरीदी के लिए पंजीयन शुरू करने की मांग की है। जय किसान ऋण माफी योजना भी किसानों को समझ नहीं आ रही है। अलग-अलग रंग के कार्डों से कम शिक्षित किसानों को परेशानी है। किसानों ने इसके लिए समझाईश केन्द्र बनाने की आग्रह भी किया है।