जबलपुर। संभागायुक्त राजेश बहुगुणा ने आयुष्मान भारत योजना के अन्तर्गत गरीब मरीजों को सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में नि:शुल्क इलाज देने के लिए मरीजों को चिन्हांकित कर उन्हें योजना का लाभ दिलाने के निर्देश दिए हैं। संभागायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों तथा योजना के चयनित निजी चिकित्सालयों के प्रतिनिधियों की बैठक लेकर कार्ययोजना तथा अब तक प्रगति की जानकारी ली। बैठक में संयुक्त संचालक स्वास्थ्य सेवाएं और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जबलपुर मौजूद थे।
    संभागायुक्त ने कहा कि आयुष्मान योजना के अन्तर्गत ग्राम स्तर पर आशा कार्यकर्ता निर्धारित तिथियों में भ्रमण कर रोगियों को चिन्हित कर सम्बन्धित विकासखण्ड स्तरीय शिविर में पहुंचने के लिए सूचित करें। निश्चित दिन विकासखण्ड स्तर पर शिविर आयोजित किया जाए। जिसमें ग्राम स्तर से चिन्हित कर बुलाए गए मरीजों की जांच, उपचार और जिला स्तरीय शिविर के लिए चिन्हित किया जाए। जिला स्तर पर जिला स्तरीय शिविर आयोजित किया जाए।
    मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि आयुष्मान योजना के अन्तर्गत गरीब मरीजों के इलाज के लिए जबलपुर जिले के सात सरकारी अस्पतालों नेताजी सुभाषचन्द्र बोस चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल, एल्गिन महिला चिकित्सालय और सेठ गोविन्ददास जिला चिकित्सालय जबलपुर, प्रसूतिका गृह कोतवाली जबलपुर, शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र संजय नगर, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र चरगवां और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र कटंगी पाटन को चिन्हित किया गया है। जबलपुर स्थित १३ प्राइवेट चिकित्सालयों में भी आयुष्मान भारत योजना तहत उपचार हो सकेगा।
    संभागायुक्त ने निर्देश दिये विकासखण्ड स्तर तथा जिला स्तर पर आयोजित शिविर दिनांक का प्रचार-प्रसार करें। चिकित्सालय, योजना की विस्तृत जानकारी अस्पताल प्रांगण में फ्लेक्स आदि माध्यम से मरीजों तक पहुंचाएं। लोगों में जागरूकता बढ़ायी जाए। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जबलपुर द्वारा बताया गया कि योजना तहत आरंभ से १२ फरवरी १९ तक १३०६ हितग्राहियों को पंजीकृत किया गया है। योजना के वर्ष २०११ में आर्थिक, सामाजिक एवं जातिगत जनगणना आधार पर पात्र व्यक्ति हितग्राही होंगे। खाद्य सुरक्षा पात्रता पर्ची के हितग्राही और असंगठित क्षेत्र के मजदूर संबल योजना के हितग्राही योजना के लिए पात्र होंगे।