भोपाल । भाजपा शासनकाल में किसानों से अधिग्रहित की गई 494 एकड जमीन उन्हें वापस कर दी जाएगी, क्योंकि भोपाल विकास प्राधिकरण (बीडीए) ने इस जमीन बनने वाले 5 प्रोजेक्टों को आर्थिक दिक्कतों के चलते निरस्त कर दिए हैं। सूत्रों के माने तो वर्ष 2006 से 2014 के बीच लांच इन प्रोजेक्ट का काम पैसे की कमी से शुरु नहीं हो पा रहा था। बीडीए ने 200 से अधिक किसानों से लगभग एक हजार एकड जमीन डेवलपमेंट के लिए ली थी। इसके एवज में नगद मुआवजा और विकसित प्लॉट दिए जाने थे। कई किसान बीडीए के खिलाफ कोर्ट चले गए। 
    अब बीडीए किसानों से अधिग्रहित की गई जमीन वापस कर देगा। जो प्रोजेक्ट निरस्त किए गए है उनमें बॉटनिकल गार्डन, ट्रांसपोर्ट नगर, यातायात नगर, एनआरआई कॉलोनी और भानपुर स्कीम के प्रोजेक्ट शामिल है। इसका असर मिसरोद फेज 1-2 और पीपीपी मोड वाले प्रोजेक्ट पर भी हो सकता है। बताया जा रहा है कि सीईओ ने भाजपा शासनकाल में भी प्रोजेक्ट निरस्त करने की अनुमति मांगी थी, लेकिन मौजूदा कांग्रेस सरकार ने इसे मंजूरी दी है। इस बारे में बीडीए के सीईओ बुदधेश वैदय का कहना है कि पांच प्रोजेक्ट निरस्त करने का प्रस्ताव सरकार ने मंजूर किया है। किसानों से ली गई लगभग एक हजार एकड जमीन जल्द ही लौटा दी जाएगी। अब हम सिटी डेवलपमेंट पर फोकस करेंगे।