अलीगढ । प्रदेश सरकार द्वारा किसानों के विकास के लिए अनेक योजनाओं का क्रियान्वयन किया गया है। .षि यंत्रों में 80 प्रतिशत तथा बीज में 50 प्रतिशत का तक का अनुदान देकर किसानों के विकास के लिए निरन्तर प्रयास किया गया है। जहां एक ओर .षि मेलों के माध्यम से किसानों को वैज्ञानिक खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है वहप दूसरी ओर .षि कुम्भ लगाकर खेती के और उन्नत तरीकों को खोजा जा रहा है।यह विचार प्रदेश के .षि मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने .ष्णांजलि में आयोजित .षि गोष्ठी में व्यक्त किये। उन्होंने बताया कि लखनऊ में .षि कुम्भ लगाया गया जिसमें जापान, इजराइल के साथ 20-25 विश्वविद्यालयों के छात्रों के साथ 1.5 लाख किसान भी उपस्थित हुये जहां किसानों को वैज्ञानिक खेती कर के और अधिक लाभ पहुचाने का प्रयास किया गया। उन्होंने बताया कि बमब कम्पोस्ट से हम अपनी उपज को उच्च स्तर की पैदा कर सकते हैं। जब फसल उच्च कोटि की होगी तो उसकी कीमत भी बाजार में अच्छी प्रापत होगी। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री द्वारा उत्तर प्रदेश के बाराबंकी तथा बुलन्दशहर के किसान को जैविक खेती में पद्म श्री से सम्मानित किया गया है। उन्होंने कहा कि जब बुलन्दशहर के किसान सम्मानित हो सकते हैं तो अलीगढ़ के किसान भी सम्मानित होने चाहिये। उन्होंने कहा कि धान की पुआली से जहां अनेक नुकसान होते हैं वहप केन्द्र सरकार द्वारा पुआली को एनटीपीसी में 05 प्रतिशत प्रयोग करने की योजना बनाई गयी है। .षि मंत्री ने कहा कि जलस्तर को ऊWचा उठाने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा खेत तालाब योजना प्रारम्भ की गयी है जिसमें किसानों को 50 प्रतिशत अनुदान भी दिया जा रहा है। इस योजना से जहां जलस्तर ऊWचा उठेगा वहप उसमें मत्स्य पालन कर के किसानों की आय का एक नया स्रोत उत्पन्न होगा। उन्होंने कहा कि पछली सरकारों में जहां एक रूपया भेजने पर 15 पैसे ही किसान के खाते में पहॅचते थे वहप वर्तमान प्रधानमंत्री द्वारा ऐसी योजना तैयार की गयी है कि अब लाभाथबपरक योजनाओं का लाभ सीधे किसानों के खाते में पहुचता है। उन्होंने बताया कि पहले उत्तर प्रदेश के लिए बीज तेलंगाना राज्य से खरीदा जाता था परन्तु आज हमारे किसानों की मेहनत के कारण आज उत्तर प्रदेश तेलंगाना को बीज सप्लाई करने की स्थिति में है। उन्होंने अलीगढ़ और आगरा के किसानों को ढ़ेचा की खेती करने की सलाह दी। उन्होंने बताया कि ढ़ेचा की खेती में बिना अधिक खर्च किए हुए गेंहू से अधिक कीमत प्राप्त की जा सकती है। 
 इस अवसर पर शहर विधायक संजीव राजा, कोल विधायक अनिल पाराशर, छरा विधायक ठा0 रवेन्द्रपाल सिंह, मण्डलायुक्त अजय दीप सिंह, मुख्य विकास अधिकारी अनुनय झा के साथ कृषि विभाग के अधिकारी एवं किसान उपस्थित थे।