लखनऊ । प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने असंगठित क्षेत्र के कामगारों के लिये ‘प्रधानमंत्री श्रम योगी मान-धन’ (पीएम-एसवाईएम) पेंशन योजना का लोकार्पण में कहा है कि मेहनत करने वालों को बेहतर जीवन बिताने के लिये प्रधानमंत्री की ओर से प्रारम्भ की गयी नई योजना है। यह योजना गरीबों के जीवन में सूर्योदय जैसी योजना है। 60 वर्ष की आयु पर कामगारों की ऐसी स्थिति आती है कि उन्हें दूसरों के सामने हाथ फैलाना पड़ता था। इस मानधन योजना से कामगार सम्मानपूर्वक जीवन व्यतीत कर सकते हैं। उत्तर प्रदेश राज्य में असंगठित क्षेत्र के कामगारों की अनुमानित संख्या लगभग पांच करोड़ है जिसमें 18 से 40 वर्ष आयु वर्ग के श्रमिकों की अनुमानित संख्या लगभग 3.5 करोड़ है। ‘प्रधानमंत्री श्रम योगी मान-धन’ योजना रूपये 15,000 से कम आय वर्ग के लोगों के लिये सुविधापूर्ण योजना है जिसका लाभ 60 वर्ष की आयु पर मिलेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी धन्यवाद एवं अभिनन्दन के पात्र हैं जिन्होंने आर्थिक विकास की अनेक योजनाएं देश के गरीबों के लिये प्रारम्भ की हैं।
इस अवसर पर मंगलवार को लोकभवन में आयोजित कार्यक्रम में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य, श्रम एवं सेवायोजन राज्यमंत्री श्री मनोहर लाल ‘मुन्नु कोरी’, मुख्य सचिव डाॅ. अनूप चन्द्र पाण्डेय, श्रम आयुक्त अनिल कुमार, प्रमुख सचिव श्रम सुरेश चन्द्र, विधायक एवं पार्षदगण सहित अन्य लोग भी उपस्थित थे। राज्यपाल ने इस अवसर पर 10 पंजीकृत लाभार्थियों को पंजीकरण सदस्यता कार्ड भी वितरित किये। अपने सम्बोधन में राज्यपाल नाईक ने कहा कि नरेन्द्र मोदी द्वारा प्रारम्भ की गयी ‘प्रधानमंत्री श्रम योगी मान-धन’ योजना राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के विचारों और पं. दीनदयाल ने जो अंत्योदय की कल्पना रखी थी उसका साकार रूप है। राज्यपाल ने कहा कि उत्तर प्रदेश बढ़ेगा तो देश बढ़ेगा। लोकसभा चुनाव आने वाले हैं। मतदाताओं को सरकार बनाने का अधिकार है। उन्होंने कहा कि मतदान करके उत्तर प्रदेश के मतदाता देश एवं प्रदेश को बड़ा बनाने का काम करें।
उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि ‘प्रधानमंत्री श्रम योगी मान-धन’ योजना असंगठित क्षेत्र के कामगारों के लिये अतुलनीय योजना है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गरीबों के कल्याण के लिये अनेक ठोस कदम उठाते हुये मजदूरों और किसानों को प्राथमिकता दी है। प्रधानमंत्री की सभी योजनाओं को उत्तर प्रदेश सरकार ने सर्वप्रथम लागू किया है। उन्होंने कहा कि गरीबों के लिये प्रारम्भ की गयी केन्द्र सरकार की योजनाओं को दलगत राजनीति से ऊपर उठकर देखना चाहिए। वहीं श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने योजना को ऐतिहासिक पहल बताते हुये कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्रम शक्ति को महसूस करते हुये अंतिम पायदान पर खड़े लोगों को पेंशन योजना से जोड़ा है। योजना से बड़ी संख्या में लोग लाभान्वित होंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने बाबा साहेब आंबेडकर और पं. दीनदयाल की जमीनी हकीकत को चरितार्थ किया है। इस अवसर पर धन्यवाद ज्ञापन मुख्य सचिव डाॅ. अनूप चन्द्र पाण्डेय ने किया।