अलीगढ़ । सपा-बसपा और रालोद का महागठबंधन भले ही हो गया हो लेकिन अभी भी प्रत्याशी को लेकर तरह तरह की चर्चाओं का बाजार गर्म है। बसपा ने अजीत बालियान को उम्मीदवार बनाया है, लेकिन घोषणा होने वाली सभा से लेकर आज तक जनता का उतना समर्थन नहप जुटा पाए जितना कि लोग आशा कर रहे थे,नुमाइश के .ष्णाजलि में हुए कार्यक्रम में खाली कुर्सियां रहने के बाद से ही अजीत बालियान की टिकट को लेकर चर्चाएं शुरू हो गए थी। अब उन चर्चाओं को बल मिलता दिख रहा है, पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय की पत्नी व पूर्व सांसद सीमा उपाध्याय फतेहपुर सीकरी से चुनाव लड़ रही थप लेकिन अब उन्होंने वहां से दावेदारी खत्म कर दी है। सीमा उपाध्याय ने फ़तेहपुर सीकरी से अपने पाँव पीछे खिंच लिए है, 
 सूत्रों का कहना है कि सीमा उपाध्याय ने अलीगढ पर दावेदारी कर दी है, हालाँकि अभी यह स्पष्ट नहप है कि वो कहाँ से लड़ेंगी लेकिन अलीगढ में चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है। 
सियासी हल्कों में चर्चाएं यह भी हैं, कि अजीत बालियान के प्रचार की सुस्त ऱतार और अधिक जनसमर्थन न मिलने से रामवीर उपाध्याय परिवार की दावेदारी ज्यादा मजबूत हो गई है। हालाँकि रामवीर उपाध्याय ने अभी अलीगढ से लड़ने की बात नहप स्वीकारी ह,S लेकिन उन्होंने यह कहा है कि बहनजी जहां से कहेंगी वहां से चुनाव लडूंगा। अलीगढ़ से चुनाव लडऩे के सवाल पर रामवीर उपाध्याय ने कहा बहनजी जहां से लडऩे के लिए कहेंगी वहप से लडूंगा। कहा बसपा से 1996 में ही मैंने टिकट मांगी थी, इसके बाद बहनजी का जो आदेश हुआ उसका पालन किया। कहा अलीगढ़ में बसपा-सपा प्रत्याशी अजीत बालियान हमारे प्रत्याशी हैं उन्हें लड़ाया जाएगा। भाजपा में जाने की उड़ी खबरों पर कहना था कि ऐसा मैं सोच भी नहप सकता। भाजपा में जाने की बातें कोरी अफवाहे हैं। मैं और मेरा परिवार बसपा का सिपाही है। 
बताते चलें कि अलीगढ में बसपा का एक धड़ा और नगर निगम के कुछ पार्षद अजीत बालियान का खुलकर विरोध कर रहे हैं। बसपा से जुड़े सूत्र कहते हैं कि दो से तीन दिन में स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। अब देखना यह है कि अजीत बालियान की टिकट कटती है या नहप ?