रायपुर। गाड़ी, मकान जैसी महंगी चीजों के लिए फाइनेंस सुविधा तो आपने बहुत सुनी होगी, साथ ही अपनी गाड़ियों का फाइनेंस भी कराया होगा, लेकिन कभी सोचा कि आपके कपड़े भी फाइनेंस हो सकते हैं। जी हां, अब फाइनेंस कंपनियां कपड़ा खरीदने पर फाइनेंस की सुविधा दे रही हैं। सबसे कम मूल्य पांच सौ रुपये रखा गया है।

इसकी किस्त पूरी करने के लिए छह माह का समय भी दिया जाता है। साथ ही फाइनेंस कंपनियों ने स्लोगन भी दे रखा है कि कपड़े आप पहनो, पैसे हम भरेंगे। वहीं फाइनेंस में दुल्हन और दूल्हे के कपड़े खरीदने पर कई तरह के ऑफर दिए जा रहे हैं। वहीं शहर के कई कपड़े के व्यापारी भी अपनी दुकानों में फाइनेंस की बाकायदा सुविधा भी दे रहे हैं। ग्राहक से पूछा जा रहा है कि आप पैसा कैश में देंगे या फिर कपड़े को फाइनेंस कराएंगे?

 

पांच लाख तक कर रहीं फाइनेंस

वहीं फाइनेंस कंपनियों के प्रबंधकों का कहना है कि अब शादी का खर्च महंगा होता जा रहा है। परिवार के सदस्य खासकर कपड़े शादी में अच्छे और अलग-अलग प्रकार के पहनते हैं। ऐसे में खरीदारी पांच लाख तक चली जाती है। खासकर दूल्हे के कपड़े एक से डेढ़ लाख तक चले जाते हैं। ऐसे में इसमें फाइनेंस की सुविधा देना जरूरी था।

 

ये हैं फायदे

- पांच हजार से 10 हजार डाउन पेमेंट में मिल जाती है सुविधा।

 

- छह माह से लेकर दो साल तक पटाई जा सकती है किस्त।

- सबसे कम पांच सौ रुपये तक फाइनेंस से खरीदे जा सकते हैं कपड़े।

 

- मध्यमवर्गीय परिवारों का रखा गया है खास ख्याल।

लगता है ब्याज

 

- छह माह की किस्त में एक माह की किस्त अतिरिक्त देनी होती है।

- एक लाख की खरीदी पर आठ से 12 प्रतिशत तक ब्याज।

 

महंगे कपड़ों के शौक से आया फाइनेंस

अर्थशास्त्रीय डॉ. सुरेश सिंह ने बताया कि मध्यमवर्गीय परिवार अधिकतर महंगे कपड़े नहीं खरीदते थे। बजट से बाहर होने की बात कहकर सस्ते कपड़े खरीदने में रुझान लेते थे। ऐसे में फाइनेंस कंपनियों ने कपड़ों में भी किस्त की सुविधा देकर मध्यमवर्गीय परिवार को महंगे कपड़े खरीदने की ओर आकर्षित किया है। साथ कई महंगे कपड़ों जैसे दूल्हे की शेरवानी, जो एक से दो लाख तक बेची जा रही है, उसमें बीमा की भी सुविधा दी जा रही है।