नई दिल्ली । कम्प्यूटर उपभोक्ताओं का पसंदीदा माइक्रोसॉफ्ट विंडोज 7 का वर्जन कुछ ही महीनों का मेहमान है। जल्द ही इसे बंद कर दिया जाएगा। माइक्रोसॉफ्ट ने विंडोज 7 को 22 जुलाई 2009 में रिलीज किया था। रिलीज के साथ ही यह यूजर्स का पसंदीदा विंडोज वर्जन बन गया था। 10 साल की सर्विस के बाद कंपनी ने अब इसे बंद करने का फैसला किया है। हाल ही में माइक्रोसॉफ्ट ने अपने विंडोज 7 यूजर्स के लिए एक नोटिफिकेशन जारी करना शुरू किया है। इसमें कहा जा रहा है कि कंपनी अब विंडोज 7 ऑपरेटिंग सिस्टम को अपडेट नहीं उपलब्ध कराएगी। शुक्रवार को माइक्रोसॉफ्ट ने एक पोस्ट में लिखा, '10 साल की सेवा के बाद 14 जनवरी 2020 को वह आखिरी दिन होगा जब कंपनी विंडोज 7 पर चलने वाले कंप्युटर्स के लिए सिक्यॉरिटी अपडेट उपलब्ध कराएगी। इसके साथ ही इस अपडेट में विंडोज 7 के बंद होने का नोटिफिकेशन रिमाइंडर भी दिया जाएगा।' माइक्रोसॉफ्ट ने यूजर्स को विंडोज 7 के बंद होने का नोटिफिकेशन देने का फैसला इसी महीने के शुरुआत में ले लिया था। विंडोज का अपडेट विंडोज के जरिए उपलब्ध कराया जा रहा है। अगर यूजर्स के सिस्टम में ऑटोमैटिक अपडेट का ऑप्शन ऑन है तो यह अपडेट उनके सिस्टम पर ऑटोमैटिकली इंस्टॉल्ड हो जाएगा। यूजर्स अगर विंडोज द्वारा भेजे जाने वाले नोटिफिकेशन तो रिसीव नहीं करना चाहते हैं तो उन्हें 'डू नॉट रिमाइंड मी अगेन' ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। एक रिपोर्ट के मुताबिक विंडोज 10 100 करोड़ इंस्टॉलेशन के आंकड़े के काफी करीब पहुंच गया है और ऐसे में विंडोज 7 को बंद करने के कंपनी विंडोज 10 को और अच्छे तरीके से प्रमोट कर पाएगी। फिलहाल विंडोज 10 दुनियाभर में 80 करोड़ बार इंस्टॉल हो चुका है।