नई दिल्ली,  नमो फूड के पैकेट पोलिंग बूथ के अंदर जाते देखते ही सबका माथा ठनका. जब तक हम मीडिया वाले कुछ समझ पाते तब तक पलक झपकते ही डिब्बा गायब. नोएडा सेक्टर 15ए के आलीशान क्लब के अंदर बने तीन पोलिंग बूथों में वो पैकेट कहां रखे गए इसका पता ही नहीं चला. हालांकि, वो बाद में पोलिंग पार्टी के पेट में ही गए. लेकिन नमो फूड क्या है, यहां तक कैसे आया, ये सवाल मथ रहे थे लिहाजा इसके अंदर तक घुसना लाजिमी था.

सुबह कोई साढे नौ का वक्त था. गौतमबुद्ध नगर से बीजेपी उम्मीदवार और केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ. महेश शर्मा वोट डालने परिवार के साथ आए. मीडिया की मारा-मारी और समर्थकों की भागम-भाग.. इसी बीच एक वैन रुकी उसमें से पॉलिथीन की बड़ी-बड़ी थैलियों में खाने के दर्जनों पैकेट उतारे गए और सीधे क्लब हाउस के अंदर.. थैलियों में मौजूद फूड पैकेट पर नमो फूड छपा था. चौंकना लाजिमी था, लेकिन हमने देखा कि उस पर किसी नेता, कार्यकर्ता या हस्ती की तस्वीर नहीं थी.

बाद में खबर आई कि गाजियाबाद में भी नमो फूड के ऐसे ही पैकेट पोलिंग पार्टियों के लिए लाए गए. हमने भी चुनाव आयोग को ट्वीट कर तस्वीर के साथ इसकी जानकारी दी कि आखिर ये क्या माजरा है. आयोग ने 2 घंटे बाद बताया कि इसका निर्वाचन आयोग या आचार संहिता से कोई लेना देना नहीं. क्योंकि ये कोई पुरानी फर्म है जिसने नमो फूड के नाम से ही अपना प्रतिष्ठान रजिस्टर्ड कराया है. ऐसे में फिलहाल तो न आचार संहिता उसका कुछ बिगाड़ सकती है और ना ही आयोग.

अब हम नोएडा सेक्टर-2 स्थित नमो फूड पहुंचे. इस फूड चेन के मैनेजर सुनील आनंद को फोन मिलाया तो वो खुद खाना ही खा रहे थे. वो भी भागे-भागे 5 मिनट में पहुंचे. जब उनको सारी बात बताई तो वो भी मुस्करा उठे. उनका कहना है कि ये तो करीब सवा साल पुराना प्रतिष्ठान है. अब नोएडा और ग्रेटर नोएडा में इस फूड चेन की 5 शाखाएं हैं. नाम को लेकर बात चली तो हमने पूछ लिया कि आपने भी वही सोच कर नाम रखा जो सब सोचते हैं. सुनील आनंद ने मुस्कुराते हुए कहा कि नहीं हमारी सोच तो संस्कृत के नमो नम: से जुड़ी है, जिसका सीधा अर्थ नमस्कार और स्वागत से है. उन्होंने ये भी जोड़ा कि हमारा लोगो यानी प्रतीक चिह्न भी जुड़े हुए हाथ हैं. लेकिन सियासी फिजा है, हर कोई सियासी मायने ही खोजता और लगाता है.

हमने फिर पोलिंग पार्टी को खंगाला. एक अधिकारी ने कहा कि दरअसल नवरात्रि की वजह से अधिकतर अधिकारी शाकाहारी खाना चाहते थे. उनको बताया गया कि इसका खाना सही है. लिहाजा हमने वहीं से ऑनलाइन ऑर्डर देकर खाना मंगाया. अब उनकी बात कितनी सच है कितना फसाना, ये तो उनका दिल ही जाने. अब चुनाव में हार-जीत किसकी होगी इसके लिए तो 23 मई तक इंतजार करना होगा. लेकिन ये तो तय है कि नमो फूड की तो चल निकली.