जयपुर,पाली जिले के रायपुर इलाके में गुरुवार को हुए एक दर्दनाक हादसे में झौंपड़े में सो रहा छह माह का एक मासूम मां के सामने जिंदा जल गया. साधनों के अभाव में बेबस मां अपने बच्चे को जिंदा जलते देखकर रोती रही, लेकिन वह कुछ नहीं कर पाई. आग से झोपड़े के पास बंधे दो मवेशी और घरेलू सामान भी जलकर राख हो गया. मां के रोने की आवाज सुनकर जब तक ग्रामीण मौके पर पहुंचे तब तक सबकुछ खत्म हो चुका था.जानकारी के अनुसार हादसा रायपुर के चावंडिया खुर्द गांव के एक खेत में हुआ. चावंडिया खुर्द निवासी अमराराम प्रजापत मजदूरी करने बाहर गया हुआ था. उसकी पत्नी सरोज गांव से सटे खेत में बनी झोपड़ी में अपने दो बच्चों के साथ रहती है. वह गुरुवार को दोपहर में अपने 6 माह के बेटे को झौंपड़े में सुलाकर खेत में काम करने चली गई. बड़ा बेटा उसके साथ ही चला गया. इसी दौरान पीछे से अज्ञात कारणों से झौंपड़े में आग लग गई.


आसपास पानी नहीं होने के कारण कुछ नहीं कर पाई मां
झौंपड़े में आग लगी देखकर सरोज वहां भागकर आई. लेकिन आसपास पानी नहीं होने के कारण वह कुछ नहीं कर पाई. काफी देर तक वह चिखती चिल्लाती रही, लेकिन किसी ने उसकी आवाज नहीं सुनी. ग्रामीण जब उसकी आवाज सुनकर मौके पर पहुंचे, तब तक झौंपड़ा जलकर नीचे गिर चुका था और सबकुछ खत्म हो चुका था. बाद में ग्रामीणों ने जैसे-तैसे करके आग पर काबू पाया.