जयपुर, प्रदेश की गहलोत सरकार ने आईएएस अधिकारियों की विदेश यात्राओं पर सख्त रुख अपना लिया है. राज्य सरकार ने डेढ़ महीने के भीतर ही पांच आईएएस अधिकारियों एच गुइटे, मुग्धा सिन्हा, कुलदीप रांका, सुबोध अग्रवाल और गौरव गोयल की विदेश यात्रा पर ब्रेक लगा दिए हैं. राज्य सरकार ने इन अधिकारियों को विदेश यात्रा करने की हरी झंडी नहीं दी है.
सरकार की ओर से अनुमति नहीं देने के पीछे तीन कारण बताए जा रहे हैं. राजनीतिक, कैडर क्लीयरेंस नहीं होना और सरकार की माली हालत. गत महीने पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह से विवाद के चलते आईएएस एच गुइटे की जर्मनी यात्रा रोक दी गई थी. पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र बिना उनकी अनुमति के एक अधिकारी को तीन महीने का सेवा विस्तार देने से नाराज हो गए थे. इसी के चलते एच गुइटे को विदेश यात्रा की अनुमति नहीं दी गई.
खाद्यमंत्री रमेश मीणा और विभाग की प्रमुख सचिव मुग्धा सिन्हा के बीच विवाद भी काफी सुर्खियों में रहा. विवाद के चलते मुग्धा सिन्हा की भी प्रस्तावित जर्मनी यात्रा पर ब्रेक लगा दिया गया. उसके बाद राज्य सरकार ने हाल ही में आईएएस सुबोध अग्रवाल, कुलदीप रांका और गौरव गोयल की प्रस्तावित अमेरिका की यात्रा पर भी ब्रेक लगा दिया है. इन अधिकारियों को 9 अप्रैल से 12 अप्रैल तक फ्लोरोडा (अमेरिका) में आयोजित सेमीनार में भाग लेना प्रस्तावित था.
हालांकि, सरकारी सूत्रों का कहना है कि इन अधिकारियों को विदेश यात्रा की अनुमति नहीं देने के पीछे उनका कैडर क्लीयरेंस नहीं होना है. आईएएस अधिकारी की विदेश यात्रा के लिए कैडर क्लीयरेंस का होना जरूरी है. इसके बाद ही सरकार अनुमति प्रदान करती है.