गोला फेंक खिलाड़ी मनप्रीत कौर को डोप जांच में विफल रहने के कारण प्रतिबंधित कर दिया गया है। मनप्रीत के नमूने में चार बार स्टेरायड पाये जाने के बाद राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) ने उसपर यह प्रतिबंध लगाया है। डोपिंग रोधी अनुशासनात्मक पैनल के मुताबिक मनप्रीत पर यह प्रतिबंध चार साल के लिए लागू रहेगा जिसकी शुरूआत 20 जुलाई 2017 से होगी। नाडा के निदेशक नवीन अग्रवाल ने बताया, ‘‘हां मनप्रीत कौर को चार साल के लिए प्रतिबंधित किया गया है।’’मनप्रीत अब इस फैसले के खिलाफ डोपिंग रोधी अपीलीय पैनल में अपील कर सकती है। 
इस फैसले से मनप्रीत 2017 में भुवनेश्वर में हुए एशियाई चैम्पियनशिप में मिले स्वर्ण पदक और अपने राष्ट्रीय रिकॉर्ड को खो देगी क्योंकि पैनल ने उन्हें नमूने के संग्रह करने की तारीख से ही अयोग्य घोषित कर दिया।मनप्रीत के नमूने को 2017 में चार बार पॉजिटिव पाया गया।चीन के शिन्हुआ में 24 अप्रैल को एशियाई ग्रांप्री के बाद फेडरेशन कप (पटियाला, एक जून)एशियाई एथलेटिक्स चैम्पियनशिप (भुवनेश्वर, छह जुलाई) और अंतर-राज्यीय चैम्पियनशिप (गुंटूर, 16 जुलाई) में भी उनके नमूने को पॉजिटिव पाया गया। उन्होंने इन सभी प्रतियोगिताओं में स्वर्ण पदक हासिल किया था।