पीसीपीएनडीटी एक्ट के तहत झुंझुनूं में हिस्ट्रीशीटर घोषित किया गया रवि सिंह अकूत संपत्ति का मालिक है. कोख में ही हजारों बेटियां का कत्ल करने  का आरोपी झुंझुनूं निवासी रवि ने झुंझुनूं के सिंघाना में आलीशान बंगला बना रखा है. उसकी जयपुर में एक कपड़ा फैक्ट्री और बीकानेर में करीब 25 हैक्टेयर जमीन और मकान है. रवि का मेडिकल साइंस से कोई रिश्ता नहीं है. वह सिर्फ नवीं पास है. इसके बावजूद वह मेडिकल लाइन में काफी आगे बढ़ गया. रवि प्रदेश में पीसीपीएनडीटी एक्ट के तहत हिस्ट्रीशीटर घोषित होने वाला दूसरा शख्स है.
पीसीपीएनडीटी ब्यूरो के मुताबिक भ्रूण लिंग जांच और गर्भपात के जरिए ने रवि ने बड़ी मात्रा में काली कमाई एकत्र कर रखी है. रवि का सिंघाना में काफी बड़ा बंगला और चार पांच गाड़ियां हैं. कई जिलों में उसके और उसके रिश्तेदारों के नाम से करोड़ों रुपए की संपत्ति है. इसके बावजूद में वह एक के बाद एक मामलों में गर्भपात करता रहा. पैसों के लालच में रवि कन्या भ्रूण हत्या जैसा अपराध बड़ी आसानी से कर देता है. उसे पुलिस का कोई खौफ नहीं है. रवि एक दिन में 8 से 10 गर्भवती महिलाओं के भ्रूण की लिंग जांच कराता है. डिमांड के अनुसार उनके गर्भपात करवाता है. वह एक पूरे केस के 30 से 50 हजार तक वसूलता है.
गांव-गांव, ढाणी-ढाणी में फैला है नेटवर्क
पीसीपीएनडीटी ब्यूरो की जांच में सामने आया रवि का गिरोह राजस्थान, हरियाणा और मध्य प्रदेश के गांव-गांव, ढाणी-ढाणी में फैला हुआ है. इस घिनौने अपराध के लिए उसे चार बार गिरफ्तार किया जा चुका है. चारों बार वह जमानत पर छूटने के बाद फिर वही काम करना शुरू कर देता है.
बड़ी तादाद में सोनोग्राफी की मशीनें हैं रवि के पास
रवि के पास बड़ी तादाद में सोनोग्राफी की मशीनें हैं. वह चाइना टेक्नोलॉजी की मशीनें रखता है. उसके पास पोर्टेबल सोनोग्राफी मशीनें भी है. उन मशीनों को एक से दूसरी जगह पर आसानी से ले जाया जा सकता है. रवि ने बीते 10 वर्ष में गर्भपात जैसे घिनौने अपराध से अथाह संपत्ति कमाई है. उसने अपने गिरोह में भी बहुत से लोगों को जोड़ा है. पूछताछ में सामने आया कि रवि के साथ बहुत से सरकारी अस्पतालों की एएनएम नर्सिंग स्टाफ भी इस गोरखधंधे में शामिल हैं.