बिना अनुमति हवाई यात्रा के दौरान अपने साथ कारतूस ले जाने की कोशिश नाकाम रही। शनिवार को चंडीगढ़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर इस मामले में हैदर गुलाम अली कादरी नामक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया। पुलिस के मुताबिक आरोपित एक सूफी संत है और पंजाब के बरनाला का निवासी है। आरोपित के पास से .32 बोर वाले रिवाल्वर के 13 कारतूस बरामद हुए हैं। वह कोलकाता के लिए हवाई यात्रा के उद्देश्य से एयरपोर्ट पर पहुंचा था। एयरपोर्ट पुलिस ने आरोपित के खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज किया है।

शनिवार सुबह फ्लाइट पकडऩे के लिए गुलाम हैदर अली कादरी जैसे ही चंडीगढ़ इंटरनेशन एयरपोर्ट में पहुंचा, सीआइएसएफ सिक्योरिटी की ओर से अन्य यात्रियों के साथ उसकी भी चेकिंग की गई। इस दौरान उनके पास से .32 बोर वाले रिवाल्वर के 13 कारतूस बरामद हुए। इसके चलते उसे रोक लिया गया। साथ ही मामले की जानकारी एयरपोर्ट पुलिस स्टेशन के अधिकारियों को दी गई। पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। आरोपित को बाद में ड्यूटी मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया, जहां से उसे पटियाला जेल भेज दिया गया है।

मौके पर नहीं दिखा पाया लाइसेंस
जब आरोपित से कारतूस के बारे में पूछताछ की गई तो उसने बताया कि उनके पास लाइसेंसी हथियार है। यह कारतूस भी उसी के हैं, लेकिन वह मौके पर कोई लाइसेंस नहीं दिखा सका। एसएचओ बलजीत सिंह ने बताया कि एयरपोर्ट परिसर में किसी भी प्रकार के हथियार लाने पर पूरी तरह से पाबंदी है।

चुनाव आचार संहिता के चलते जमा करवाने होते हैं हथियार
इस समय लोकसभा को देखते हुए चुनाव आचार संहिता लागू है। इसके मद्देनजर सभी लाइसेंसी हथियार जमा कराने का निर्देश प्रशासनिक स्तर से जारी किए जा चुके हैं। पंजाब के बरनाला निवासी गुलाम हैदर अली कादरी की ओर से अपने लाइसेंसी हथियार के 13 कारतूस नजदीकी पुलिस स्टेशन में जमा नहीं करवाए गए थे। वह उन्हें अपने साथ ही लेकर घूम रहा था। पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि आरोपित अभी तक अपना लाइसेंसी .32 बोर का रिवाल्वर पुलिस स्टेशन में जमा करवाया है या नहीं।