पश्चिमी विक्षोभ के चलते मौसम में बदलाव का दौर जारी है।सोमवार को दिन ढलते ही मौसम का मिजाज बदल गया। राज्य के कई जिलाें में तेज अांधी अाैर बारिश के चलते जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। लाइट गुल होने से जालंधर, लुधियाना सहित कई शहराें में ब्लैकआउट जैसी स्थिति बन गई। फिराेजपुर-फरीदकाेट सड़क अाैर रेलमार्ग पर सैकड़ाें पेड़ गिरने के कारण अावागमन कई घंटे तक प्रभावित रहा। तूफान के कारण दाे दजर्न ट्रेनें प्रभावित रहीं। 

 श्री मुक्तसर साहिब में आंधी के कारण खेत में बिछी हुई गेहूं की फसल

दरअसल, संक्रांति वाले दिन 14 अप्रैल को दिन भर मौसम गर्म रहने के बाद रात को हल्की हवाओं ने संकेत दे दिया था। माैसम विभाग के अनुसार अगले दाे दिन तक अांधी-बारिश अाैर ओलावृष्टि का अनुमान है।मौसम विभाग के मुताबिक मंगलवार व बुधवार को बूंदाबांदी के आसार है। इसी तरह आसमान में बादल छाए रहेंगे।
 35 मिनट अंधेरे में डूबा रहा सिविल अस्पताल


फरीदकोट में तेज आंधी के कारण मोहल्ला खोखर में गिरा मोबाइल टावर ।

सोमवार रात को तेज आंधी के चलते जालंधर सिविल अस्पताल 35 मिनट अंधेरे में डूबा रहा। इस दौरान डॉक्टरों व नर्सिंग स्टाफ ने मोबाइल की टॉर्च के साथ मरीजों का इलाज किया। वार्डों में भी  अंधेरा छाया रहा और मरीजों के परिजन बरामदे में आकर बैठ गए थे। मौके पर तैनात डॉ. राकेश चोपड़ा की ओर से टेलीफोन करने के बाद जनरेटर ऑपरेटर  पहुंचा और जनेटर चलने से द्वारा अस्पताल रोशन हुआ।