जींद की शाहपुर पंचायत में अब लोकसभा चुनाव प्रचार का शोर सुनाई नहीं देगा. इसके साथ ही गांव में डीजे पर बजने वाले गाने हो या लाउड स्पीकर पर लगने वाले नेताओं के नारे सब पर गांव की पंचायत की तरफ से बैन लगा दिया गया है.

गांव की पंचायत के फैसले के मुताबिक कोई भी राजनेता अब गांव में लाउड स्पीकर से चुनाव प्रचार नहीं कर सकेगा. यदि किसी राजनीतिक दल ने नियम का उल्लंघन किया तो उसे 11 हजार रुपए का जुर्माना देना होगा. इतना ही नहीं राजनीतिक दल के प्रतिनिधि को गांव में चुनाव प्रचार करने से पूर्व पंचायत द्वारा निर्धारित की गई कमेटी को इसकी सूचना देकर मंजूरी भी लेनी होगी.

वहीं गांव के लोगों ने भी फैसले का स्वागत किया है. लोगों का मानना है कि लाउड स्पीकर और डीजे की वजह से कई बार गांव में तनाव का माहौल बनता था. इसके अलावा हर्ष फायरिंग और मृत्यु भोज पर भी गांव में प्रतिबंध लगा दिया गया है.

नियमों की निगरानी के लिए पंचायत ने 30 लोगों की निगरानी कमेटी का गठन किया है. वहीं पंचायत के इस फैसले के बाद कमेटी द्वारा नियमों की उल्लंघना करने वाले तीन लोगों को जुर्माना लगाकर 21 हजार रुपए की राशि भी वसूली जा चुकी है. जुर्माने से एकत्रित होने वाली राशि को गांव के विकास कार्यों में खर्च किया जाएगा.