लोकसभा चुनाव की तारीख नजदीक आते ही हर बार की तरह इस बार भी सियासी दलों की नज़रें डेरा सच्चा सौदा के वोट बैंक पर है. चुनावों के चलते अब डेरे ने भी धार्मिक कार्यक्रम कर राजनितिक दलों को अपनी शक्ति का एहसास करवाना शुरू कर दिया है. प्रदेश के कई इलाकों में रविवार (21 अप्रैल) को डेरा समर्थकों ने डेरे का स्थापना दिवस मनाया. इस दौरान कार्यक्रम में नेता भी हाजिरी लगाते नजर आए. सिरसा में आयोजित कार्यक्रम में इनेलो के विधायक रामचंदर कम्बोज पहुंचे तो वहीं कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर की पत्नी अवंतिका तंवर भी पहुंचीं.

दरअसल, इन दिनों डेरा सच्चा सौदा के समर्थक प्रदेश के कई इलाकों में धार्मिक कार्यक्रम कर भीड़ जुटाने में लगे हैं. डेरा समर्थकों का कहना है कि ‘ये कार्यक्रम डेरे के स्थापना दिवस के चलते किए जा रहे हैं. इसे राजनितिक रूप न दिया जाए’. वहीं उनका यह भी कहना है कि इस बार डेरा समर्थक एकमत होकर फैसला लेंगे कि किस दल को समर्थन करना है. डेरा समर्थकों का कहना है कि इस बाबत अभी तक किसी तरह का कोई फैसला नहीं लिया गया है. फैसला लेने पर सबको इसकी जानकारी दी जाएगी.

कार्यक्रम में पहुंचीं कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर की पत्नी अवंतिका तंवर ने कहा कि उनका और उनके परिवार का डेरे से पुराना लगाव है. वह काफी समय से डेरे में आती रही हैं. अशोक तंवर भी डेरे में आते रहते हैं. चुनाव में डेरे के समर्थन की हमें जरुरत है.

वहीं, इनेलो के रनिया से विधायक रामचंदर कम्बोज ने भी कहा कि वे काफी समय से डेरे से जुड़े हैं. इसलिए वह यहां आते रहते हैं. डेरे के कार्यक्रमों में शिरकत करते रहते हैं. उन्होंने कहा कि डेरे का बड़ा वोट बैंक है, वे भी डेरे से समर्थन की मांग करते हैं.