रत्नागिरी-. महाराष्ट्र की रत्नागिरी-सिंधुदुर्ग अनारक्षित सीट है। तीसरे चरण में यानी 23 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे। वर्तमान में यहां शिवसेना के सांसद हैं। 2008 के परिसीमन के बाद अस्तित्व में आई इस सीट पर पहली बार साल 2009 में चुनाव हुआ था। यह सीट राणे परिवार का गढ़ मानी जाती है। यहां से निलेश राणे पहले सांसद रहे हैं।

12 प्रत्याशियों के बीच है लड़ाई

यहां से कुल 12 प्रत्याशी मैदान में हैं। शिवसेना ने अपने मौजूदा सांसद विनायक राउत को टिकट दिया। वहीं, कांग्रेस से नवीनचंद्र भालचंद्र बांदिवडेकर को अपना उम्मीदवार बनाया। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) से किशोर सिद्दू वरक, महाराष्ट्र स्वाभिमान पक्ष से नीलेश नारायण राणे, बहुजन मुक्ति पार्टी से भिकुरम काशीराम पालकर चुनाव लड़ रहे हैं। वंचित बहुजन आघाड़ी से मारुति रामचंद्र जोशी और बहुजन रिपब्लिकन सोशलिस्ट पार्टी से राजेश दिलीपकुमार जाधव चुनाव मैदान में हैं। इसके अलावा चार निर्दलीय प्रत्याशी भी चुनाव मैदान में उतरें हैं।

2014 का चुनावी समीकरण

2014 के लोकसभा चुनाव की बात करें तो रत्नागिरी-सिंधुदुर्ग सीट से शिवसेना नेता विनायक राउत ने जीत हासिल की थी। विनायक राउत को 4,93,088 वोट मिले थे जबकि दूसरे स्थान पर नीलेश राणे को  3,43,037 वोट मिले थे। 

विनायक भाऊराव राउत का लोकसभा में प्रदर्शन

दिसंबर 2018 की रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले 5 सालों के दौरान विनायक भाऊराव राउत की लोकसभा में उपस्थिति 81 प्रतिशत रही है और इस दौरान उन्होंने 117 डिबेट में हिस्सा लिया है और 937 प्रश्न पूछे हैं।

18 लाख है यहां की आबादी

रत्नागिरि-सिंधुदुर्ग की कुल आबादी 1,833, 966 थी, जिसमें से 17 प्रतिशत आबादी गांवों में और 5 प्रतिशत लोग शहरों में रहते हैं। यहां 5 प्रतिशत लोग एसी वर्ग के भी हैं।

6 में से 5 विधानसभा सीटों पर शिवसेना का राज 

रत्नागिरी-सिंधुदुर्ग संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत विधानसभा की 6 सीटें आती हैं, जिनमें चिपलून, रत्नागिरी, राजापुर, कुडल, सांवतवाडी विधानसभा सीटों पर शिवसेना का राज है। जबकि एक सीट कांकावली पर कांग्रेस का विधायक है।

दुर्ग के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्द है यह 

यह अपने दुर्ग के लिए दुनिया भर में मशहूर हैं, सिंधुदुर्ग किले को राजा शिवाजी द्वारा 1664 में बनवाया गया था, यह किला 50 एकड़ भूमि में फैला हुआ है और 9.2 मीटर ऊंचे और 4 किमी लंबी किले की दीवार के साथ 42 बुर्ज इसकी शोभा बढ़ाते हैं,जबकि बाल गंगाधर तिलक की जन्‍मस्‍थली रत्नागिरि महाराष्ट्र के कोंकण क्षेत्र का भाग है। यह क्षेत्र पश्चिम में सहयाद्रि पर्वतमाला से घिरा हुआ है।

लोकसभा सीट का इतिहास-

साल :    सांसद    पार्टी
2009 :    निलेश राणे    इंडियन नेशनल कांग्रेस
2014 :    विनायक राउत    शिवसेना