भोजपुर जिले में 34 वर्ष के दूल्हे के साथ एक 13 वर्ष की दुल्हन ब्याह दी गई। शादी से बीस दिन पहले ही इस बालिका वधू ने महिला थाने को चिट्ठी लिखी थी कि मुझे बचा लो, मैं शादी नहीं करना चाहती, मेरा दूल्हा 34 साल का है। लेकिन उसी किस्मत ऐसी कि किसी ने उसकी बात नहीं सुनी और उसकी शादी उसी दूल्हे से कर दी गई। अब इस मामले में संदेश थाने की पुलिस द्वारा मंदिर के पुजारी से सर्टिफिकेट की मांग की गयी है।

महिला थाना प्रभारी माधुरी कुमारी ने कहा है कि हमारे पास चिट्ठी या आवेदन तो नहीं, लेकिन लड़की ने फोन कर मौखिक रूप से कहा था कि मेरी शादी की जा रही है, आप एक्शन लीजिए। थानाप्रभारी का कहना है कि मामले की पूरी जांच की जा रही है और जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जायेगी।

दूसरी ओर संदेश थाना प्रभारी ने बताया कि अखगा़ंव के मंदिर में शादी की सूचना मिलने पर पुलिस वहां गई थी। लेकिन, वहां जिस पूजारी पूछताछ की गई थी। उस पुजारी ने लड़की की उम्र अठारह साल बतायी था।

हालांकि, ऐसी घटना में पुलिस की निष्क्रियता और लापरवाही स्पष्ट रूप से दिख रही है। क्योंकि 20 दिन पहले इस मामले को लेकर 13 वर्ष की बच्ची ने स्वयं महिला थाने की पुलिस से गुहार लगायी थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

 

कार्रवाई नहीं होने के बाद बच्ची ने उसी आवेदन को सदर एसडीओ के पास भी भेजा था। जिसके बाद सदर एसडीओ द्वारा उस आवेदन को धनगाई पुलिस को भेज दिया गया। धनगाई पुलिस द्वारा बच्ची को आश्वासन दिया गया था कि पुलिस के रहते उसकी शादी नहीं होगी। पुलिस द्वारा उसके मां-बाप से भी पूछताछ कर शादी नहीं करने की बात बतायी गयी थी, लेकिन 26 अप्रैल को संदेश थाने के शिवाला मंदिर में मां-बाप ने उसकी शादी कर दी। 

वहीं पुलिस का कहना है कि चोरी-छिपे लड़की की शादी कर दी गई। पुलिस को जैसे ही भनक लगी, पुलिस ने संदेश थाना पुलिस को इसकी सूचना दी, लेकिन पुलिस के पहुंचने के पहले ही उसकी शादी कर दी गयी थी। हालांकि, एसडीओ द्वारा इस मामले की जानकारी संदेश के सीओ तथा संदेश थाने की पुलिस को भी दी गयी थी,उसके बावजूद शादी नहीं रुकी।

 

पुलिस की भनक लगते ही परिजन उसे लेकर दूसरे मंदिर में चले गये थे। मौके पर पहुंची पुलिस ने जब मंदिर के पुजारी से बातचीत की और सख्त कार्रवाई करने की बात कही तो मंदिर के पुजारी ने पूरी बात प्रशासन को बतायी। इसके बाद मंदिर के पुजारी से रसीद और सर्टिफिकेट की मांग की गयी है। सर्टिफिकेट और रसीद के बाद आगे की कार्रवाई की जायेगी।