पानीपथ. लोकसभा चुनाव के लिए 12 मई को मतदान के दिन राज्य मंत्री मनीष ग्रोवर और पूर्व विधायक एवं कांग्रेसी नेता बीबी बतरा के बीच हुए विवाद बढ़ता जा रहा है। दोनों ही इस मामले में एक-दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं। बतरा ने गुरुवार को पत्रकारवार्ता कर मामले की हाई कोर्ट के जज से जांच कराने की मांग की। साथ ही मुख्यमंत्री मनोहर लाल पर जुबानी हमला बोला।


 
बीबी बतरा ने कहा, मुख्यमंत्री मनोहर लाल को जवाब देना चाहिए कि वे बंगाल को लेकर तो प्रेसवार्ता करते हैं लेकिन हरियाणा में उनके मंत्री हिस्ट्री शीटर के साथ बूथ कैप्चरिंग करते हैं तो उस पर कुछ क्यों नहीं बोल रहे हैं। कहा, सरकार जवाब दे कि रोहतक में हरियाणा सरकार के मंत्री मनीष ग्रोवर हिस्ट्री शीटर के साथ बूथ में किस हैसियत से गए थे? बूथ के अंदर मंत्री के साथ हिस्ट्री शीटर व उनके साथी क्या कर रहे थे?

उन्होंने कहा कि सरकार को चाहिए कि वे मनीष ग्रोवर को पदमुक्त करे और इस मसले को लेकर जो शिकायत हमारी तरफ से की गई थी उसके आधार पर एफआईआर दर्ज की जाए। साथ ही हाई कोर्ट के न्यायाधीश से मामले की जांच कराई जाए।

भाजपा नेताओं को फंसाने के चक्कर में खुद फंसे बतरा: ग्रोवर

सहकारिता राज्य मंत्री मनीष कुमार ग्रोवर ने पूर्व विधायक भारत भूषण बतरा पर पलटवार करते हुए कहा कि भाजपा नेताओं को फंसाने के चक्कर में वे और दूसरे कांग्रेसी नेता खुद फंस गए हैं। अब वह कभी चंडीगढ़ भाग रहे हैं तो कभी दिल्ली। जारी बयान में मंत्री ग्रोवर ने कहा कि पूर्व विधायक बतरा और बार प्रधान  ने अच्छी खासी स्क्रिप्ट लिखी लेकिन यह स्क्रिप्ट गुब्बारे की तरह फूट गई है। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को अपनी हार नजर आ रही है।

कांग्रेस के नेताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग

उन्होंने कहा कि बहाना बनाने को कांग्रेस के नेताओं ने ड्रामा रचा है। तीन से चार महीने बाद विधानसभा के चुनाव होने हैं। अब वे खुद को लोगों की नजरों में लाना चाहते हैं। साढ़े 4 साल बाद पूर्व विधायक बतरा सड़क पर आए हैं। उन्होंने कहा कि जिला निर्वाचन अधिकारी को इनके खिलाफ कड़ा संज्ञान लेना चाहिए, क्योंकि उन्होंने अपने समर्थकों के साथ मिलकर बूथ की गोपनीयता को भंग करके वीडियो वायरल किया है। भाजपा ने चुनाव आयोग को पत्र लिखे हैं और इन पत्रों के माध्यम से कांग्रेस के नेताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग उठाई है।