नई दिल्‍ली: लोकसभा चुनाव 2019 के अंतिम चरण के चुनाव प्रचार के आखिरी दिन बीजेपी दफ्तर में पीएम मोदी और बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस की. प्रेस वार्ता को पहले अमित शाह ने संबोधित किया. इसके बाद पीएम मोदी ने संबोधित किया. दोनों की प्रेस कान्‍फ्रेंस के बाद सवाल जवाब का सिलसिला शुरू हुआ. इस प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में सबसे ज्‍यादा सवाल प्रज्ञा ठाकुर के गोडसे पर दिए बयान पर पूछे गए. ऐसे ही सवाल के जवाब में अमित शाह ने कहा, पार्टी ने प्रज्ञा ठाकुर को उनके इस बयान के लिए नोटिस दिया है. 10 दिन में उनका जवाब आ जाएगा. इसके बाद पार्टी की अनुशासन समिति तय करेगी कि उनके खिलाफ क्‍या कार्रवाई की जाए.

बंगाल में हिंसा के लिए दीदी जिम्‍मेदार
अमित शाह ने बंगाल में हिंसा पर सवाल का जवाब देते हुए कहा, बंगाल में भाजपा के 80 कार्यकर्ता मारे गए हैं. हम तो पूरे देश में चुनाव लड़ रहे हैं, कहीं और हिंसा क्यों नहीं होती है. हमारे कारण हिंसा होती तो देश के हर हिस्से में होती. मीडिया को ममता जी से पूछना चाहिए कि वहीं ऐसा क्यों होता है.

बीजेपी अध्‍यक्ष से पूछा गया कि आपने भोपाल से प्रज्ञा ठाकुर को ही क्‍यों उम्‍मीदवार बनाया तो अमित शाह ने कहा, प्रज्ञा ठाकुर की उम्‍मीदवारी पर भगवा आतंकवाद के खिलाफ ये हमारा सत्‍याग्रह था. एक ऐसा केस बनाया, जिसमें सभी लोग छूट गए. एक झूठा केस बनाया. इसके लिए कौन जिम्‍मेदार है. वोट बैंक के लिए कांग्रेस ने देश की सुरक्षा से समझौता किया है. इसके लिए कांग्रेस देश से माफी मांगे.

विकास के मुद्दे के सवाल पर अमित शाह ने बीजेपी के प्रदर्शन पर कहा, बीजेपी नॉर्थ ईस्‍ट में अच्‍छा प्रदर्शन कर रही है. पश्‍च‍िम बंगाल में हमार प्रदर्शन अच्‍छा रहेगा. ओडि‍शा के साथ साथ हम कुछ राज्‍यों में अपनी सीटें बढ़ाएंगे.  

राफेल के मुद्दे पर राहुल ने तो जवाब भी नहीं सुना
अमित शाह ने राफेल के मुद्दे पर कहा, कोरे आरोप लगाने से कुछ नहीं होता. डील के अंदर किसी तरह का कोई नियमों का उल्‍लंघन नहीं हुआ है. देश की रक्षा मंत्री ने संसद के अंदर हर सवाल का जवाब दिया. उसे सुनने के लिए राहुल गांधी खुद मौजूद नहीं रहे.