महाराष्ट्र में मिली अप्रत्याशित हार के बाद कांग्रेस-रांकपा ने समीक्षा शुरू कर दी है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (रांकपा) प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल ने कहा कि प्रकाश आंबेडकर की वंचित बहुजन आघाडी पार्टी की वजह से उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा है। लोकसभा चुनाव में राज्य में एनसीपी को 4 और कांग्रेस को सिर्फ एक सीट मिली है।

 
कई जगहों पर अघाडी को मिले अच्छे वोट

जयंत पाटिल ने हार पर कहा- "लोकसभा चुनाव के शुरुआत में ही हमने वंचित बहुजन आघाड़ी से चर्चा की थी। लेकिन, चर्चा के बीच में ही उन्होंने अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए। हमारे साथ गठबंधन किए बगैर सभी 48 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए। कुछ जगहों पर वंचित बहुजन आघाडी के उम्मीदवारों को अच्छे वोट मिले हैं। उसका नुकसान हमें उठाना पड़ा।"

चुनाव परिणाम आश्चर्यजनक, हम कर रहे अध्ययन

शुक्रवार को प्रदेश राकांपा कार्यालय में बातचीत में पाटिल ने कहा- विधानसभा चुनाव के लिए हम प्रकाश आंबेडकर से चर्चा करेंगे। उन्होंने उम्मीद जताई कि विधानसभा चुनाव में लोकसभा चुनाव जैसे परिणाम नहीं आएंगे। लोकसभा चुनाव परिणाम को आश्चर्यजनक बताते हुए प्रदेश राकांपा अध्यक्ष पाटील ने कहा है कि सभी मतदान केंद्रों पर एक जैसे परिणाम कैसे संभव है। उन्होंने कहा कि इसका गहराई से अध्ययन कर रहे हैं।

वातावरण अनुकुल दिखाई दे रहा था

चुनाव प्रचार के दौरान जब मैं चुनाव क्षेत्रों में गया था, उस वक्त वातावरण हमारे अनुकूल दिखाई दे रहा था। हमें 9 से 12 सीट मिलने की उम्मीद थी। लेकिन जो चुनाव परिणाम आए हैं, वह विचलित करने वाले हैं। उन्होंने कहा कि उम्मीदवारों से बातचीत करने पर अलग-अलग तथ्य सामने आ रहे हैं। हालांकि हार अंतिम सत्य है। जनता का फैसला हमें मान्य है। राकांपा नेता ने कहा कि हातकणंगले से राजू शेट्टी की हार धक्कादायक है। राजू शेट्टी की सभाओं में जुटने वाली भीड़ से विपक्षी परेशान थे। इसके बावजूद उन्हे भी हार का सामना करना पड़ा।